पंजाब में उठा सियासी तूफान, सिद्धू और अमरिंदर ने खोला मोर्चा, दो हिस्सों में बंट सकती है पार्टी!

0
114

नई दिल्ली। पंजाब में आगामी विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस पार्टी में जो तूफान खड़ा हुआ है। वो थमने का नाम नहीं ले रहा है। दिल्ली में राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) से नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने मुलाकात की है और अपना पक्ष रखा है। वहीं मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) भी सक्रिय हो गए हैं और उन्होंने आज विधायकों को आज लंच पर बुलाया है। पंजाब में कांग्रेस के भीतर खड़ा हुआ तूफान कब शांत होगा। इस ही सभी की नजरें हैं। पार्टी का नेतृत्व अगर इस तूफान को शांत करने में असफल रहता है तो चुनाव पर पहले पंजाब कांग्रेस में दो फाड़ हो सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : दबंगों ने एक ही परिवार के 5 सदस्यों को उतारा मौत के घाट, ऐसे हुआ सनसनीखेज खुलासा

पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह के लिए विपक्ष से ज्यादा बड़ी चुनौती नवजोत सिंह सिद्धू बन गए हैं, जिन्होंने दिल्ली में रहकर अपनी चाल चल दी है। सीएम की कुर्सी पर बढ़ते संकट के बीच अमरिंदर सिंह ने पार्टी विधायकों, नेताओं और समर्थकों को आज लंच पर बुलाया है। गुरुवार को होने वाले लंच के दौरान पार्टी नेता क्या तय करते हैं। इस पर ही सभी की नजरें हैं। नवजोत सिंह सिद्धू को लेकर अमरिंदर सिंह सख्त हैं, वो इस पक्ष में नहीं हैं कि सिद्धू को कोई बड़ा या अहम पद मिले। वहीं सिद्धू पार्टी में अहम पद मिलने से खुश नहीं हैं। अब पार्टी नेतृत्व क्या तय करता हैं। यह देखने वाली बात होगी।

सीएम के खिलाफ सिद्धू शुरू से मुखर हैं। वो लगातार अमरिंदर के खिलाफ बयानबाजी कर रहे हैं। इस बीच पहले प्रियंका और फिर राहुल के साथ सिद्धू की लंबी मुलाकात हुई है। माना जा रहा है कि इस दौरान सिद्धू केंद्रीय नेतृत्व की ओर से मिले ऑफर में मान गए हैं। इसके बाद कांग्रेस पार्टी जल्द ही बड़ी घोषणा कर सकती है, जिसमे नई जिम्मेदारियां नवजोत सिंह सिद्धू को जल्द दी जा सकती है। दिल्ली में सिद्धू की पार्टी के आलाकमान के साथ हुई बैठक के बाद सीएम अमरिंदर की चिंता भी बढ़ गई है। यही वजह है कि उन्होंने अब पार्टी नेताओं को लंच पर बुलाया है।

इसे भी पढ़ें : राजनीतिक गलियारों में शोक की लहर, बीजेपी के पूर्व सांसद का हुआ निधन