प्राण प्रतिष्ठा के बाद बदल गई रामलला की आभा, नजारा देख अचंभित रह गए मूर्तिकार योगीराज

जिस रामलला को 7 महीने तक गढा उसे प्राण प्रतिष्ठा के बाद में खुद पहचाना अरुण योगीराज के लिए बहुत मुश्किल हो गया। मूर्तिकार अरुण योगीराज ने कई अविश्वसनीय बातें भी बताई।

134
Arun yogiraj

Ramlalla News: अयोध्या में बने भव्य राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा हो चुकी है। रामलला मंदिर में विराजमान हो चुके हैं। अयोध्या में स्थापित मूर्ति अरुण योगीराज द्वारा बनाई गई है जो कर्नाटक के रहने वाले हैं। इस समय मूर्तिकार अरुण योगीराज काफी चर्चा में बने हुए हैं। जिस रामलला को 7 महीने तक गढा उसे प्राण प्रतिष्ठा के बाद में खुद पहचाना अरुण योगीराज के लिए बहुत मुश्किल हो गया। मूर्तिकार अरुण योगीराज ने कई अविश्वसनीय बातें भी बताई।

प्राण प्रतिष्ठा के बाद बदल गई मूर्ति

अरुण योगीराज ने चमत्कारिक घटनाओं के बारे में बताते हुए कहा, मूर्ति निर्माण होते समय अलग दिखती थी लेकिन प्राण प्रतिष्ठा के बाद भगवान ने अलग रूप ले लिया। जिस राम लला को 7 महीने तक गड़ा उसे प्राण प्रतिष्ठा के बाद मैं खुद नहीं पहचान पाया। गर्भ ग्रह में जाते ही बहुत बदलाव हो गया। मूर्ति की आभा ही कुछ और हो गई।’ अरुण योगीराज ने बताया कि रामलला की मूर्ति बनाने में करीब 7 महीने का समय लग गया। यह हमारे पूर्वजों की सालों की तपस्या का ही नतीजा है कि हमें इस काम के लिए चुना गया।

मूर्ति बनाते समय आते थे बंदर

अरुण योगीराज ने दिलचस्प किस्सा शेयर करते हुए बताया है कि, मूर्ति बनाते समय रोज घर के अंदर बंदर आते थे। बंदर उनके घर जाकर मूर्ति के दर्शन करते और मूर्ति का काम देखते ही लौट जाते थे। काम के दौरान बंदरों के आने से हम काफी परेशान भी हो जाते थे। हम लोगों का ध्यान भटक जाता था। हमने इस संबंध में चंपत राय से भी बात की थी। उन्होंने हमसे कर्मशाला घेराव करने के लिए कहा। हमने चारों तरफ से बंद करवा कर दरवाजा लगवा दिया इस शाम को बंदर फिर आए और बंद दरवाजा पीटने लगे। मैंने दरवाजा खोला तब बंदर दरवाजा पीट रहा था हमने दरवाजा खोला तो बंदर अंदर आए और मूर्ति के दर्शन करके चले गए।

Read More-रामलला ने झपकाई पलके? वायरल वीडियो देख आश्चर्यचकित हुए लोग