दबाव में आया चीन, पैंगोंग झील से पीछे हटेगी सेना, राजनाथ सिंह ने बड़ा ऐलान

68

नई दिल्ली। पूर्वी लद्दाख में भारत-चीन के बीच में पिछले 10 महीनों से चल रहा तनाव अब कम होता हुआ दिखाई दे रहा है। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने राज्यसभा में गुरुवार को बताया है कि, चीन के साथ चल रहे विवाद पर समझौता हो गया है। पैंगोंग लेक के पास जो विवाद था वो खत्म हो गया है, जिसके बाद अब दोनों देशों की सेनायें पीछे हटने को तैयार हो गईं हैं। इसके साथ ही अब क्षेत्र में अप्रैल 2020 से पहले की स्थिति को लागू कर दिया जाएगा। आज से ही इस प्रक्रिया की शुरुआत हो जाएगी। बुधवार को ही भारत और चीन की सेनाओं का पैंगोंग लेक पीछे हटने की जानकारी सामने आई थी, जिसके दूसरे ही दिन आज सरकार ने संसद में इसे लेकर आधिकारिक बयान भी दे दिया है।

इसे भी पढ़ें: UP में बेखौफ हुए अपराधी, छेड़खानी के आरोपियों को पकड़ने गई पुलिस टीम पर हुआ हमला

राजनाथ सिंह ने संसद में बताया कि, चीन ने पूर्वी लद्दाख की सीमा पर पिछले वर्ष भारी मात्रा में गोला बारूद सीमा पर एकत्र कर लिया था। इसके बाद भारत की सेना ने भी चीन के खिलाफ उचित कार्रवाई की। दोनों देशों के बीच बातचीत का सिलसिला सितंबर में शुरू हुआ। रक्षामंत्री ने कहा कि, हमारा लक्ष्य LAC यथास्थिति करना है। संसद ने राजनाथ सिंह ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि, चीन ने 1962 के समय ही भारत के काफी हिस्से पर कब्ज़ा कर लिया था। सीमा पर चल रहे तनाव का प्रभाव भी भारत चीन के रिश्तों पर देखने को मिला है।

नहीं देंगे एक इंच भी जमीन
राजनाथ सिंह ने राज्यसभा में कहा कि, हमारी रणनीति बातचीत के दौरान एकदम साफ़ थी। वहीं पीएम नरेंद्र मोदी के भी निर्देश थे कि, एक इंच भी जमीन भारत किसी और को नहीं देगा। दृढ़ संकल्प का फल है कि, चीन से हम समझौते की स्थिति पर पहुंच गए हैं। रक्षामंत्री ने संसद में बताया है कि, सीमा पर तैनात सेना चरणबद्ध तरीके से पीछे हटेंगी।

इसे भी पढ़ें: आज बंगाल में गरजेंगे शाह, ममता सरकार को उखाड़ फेंकने की जनता से करेंगे अपील