भूलकर शिवलिंग पर ना चढ़ाएं यह फूल, हो जाएगा पाप

इसमें केतकी का फूल शामिल है. शिव पुराण में केतकी के फूल के कथा के बारे में बताया गया है कि आखिर क्यों? पूजा में केतकी के फूल का प्रयोग नहीं किया जाता. आइए जाने केतकी के फूल और भगवान शिव की कथा के बारे में बात करते है.

458
Ketki Ka Phool

Ketki Ka Phool: सावन का महीना बहुत ही पावन होता है. कहा जाता है इस माह में भगवान शिव को खुश करने के लिए बहुत से कार्य किए जाते हैं. सावन में भगवान इससे बहुत जल्द खुश हो जाते हैं. शिव जी की प्रिय चीजें उन्हें अर्पित करते हैं. कुछ ऐसी चीजों के बारे में भी बताया गया है कि जिन्हें कभी भी भगवान को अर्पित नहीं करनी चाहिए. ऐसे ही भगवान शिव को एक फूल भूल कर भी अर्पित नहीं करना चाहिए. इसमें केतकी का फूल शामिल है. शिव पुराण में केतकी के फूल के कथा के बारे में बताया गया है कि आखिर क्यों? पूजा में केतकी के फूल का प्रयोग नहीं किया जाता. आइए जाने केतकी के फूल और भगवान शिव की कथा के बारे में बात करते है.

शिव पुराण की कथा

शिव पुराण में भगवान शिव को केतकी का फूल अर्पित ना करने के लिए एक कथा बताई गई है एक बार ब्रह्मा जी और विष्णु जी के बीच विवाद हो गया कि कौन सर्वश्रेष्ठ है और इस विवाद को खत्म करने के लिए दोनों शिवजी के पास पहुंचे. उस समय महादेव ने 1 ज्योतिर्लिंग की उत्पत्ति कर उसका आदि और अंत खोजने के लिए बोला. साथ ही कहा कि जो आदि और अंत खोज पाएगा वही श्रेष्ठ हो जाएगा.

ज्योतिर्लिंग का आदि यंत्र खोजने के लिए भगवान विष्णु ऊपर की ओर और ब्रह्मा नीचे की ओर बढ़ गए शिवलिंग का अर्थ खोजने के लिए ब्रह्मा जी और विष्णु जी ने बहुत कोशिश की, लेकिन उन्हें कुछ प्राप्त नहीं हुआ. जब ब्रह्मा जी अंत ढूंढते ढूंढते थक गए. रास्ते में केतकी का फूल मिला. ब्रह्मा जी ने केतकी के फूल को बहला कर शिवजी के आगे झूठ बोलने को कहा फिर दोनो झूठ बोल दिए. दोनो ने यह स्वीकार किया कि उन्हें शिवलिंग का अंत मिल गया.

केतकी का फूल चढ़ाने से लगेगा पाप

महादेव को यह बात पहले से ही ज्ञान में थी कि ब्रह्मदेव झूठ बोल रहे हैं और उनकी इस बात से वह क्रोधित हो गए. ब्रह्मा जी को पांचवा सिर काट दिया तो वही केतकी के फूल को श्राप दिया कि शिवजी को पूजा में केतकी का फूल इस्तेमाल वर्जित रहेगा. तब से ही महादेव की पूजा में केतकी के फूल का प्रयोग नहीं किया जाता है. केतकी का फूल चढ़ाना पाप बताया गया है. इसलिए भूल कर भी सावन या महादेव की पूजा के समय केतकी का फूल ना चढ़ाएं.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है.News India इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

Read More-दोनों हाथों से पैसा बटोरेगे ये राशि के लोग, होने जा रहा ‘नवपंचम राजयोग’ का निर्माण