गांव में घुसा तेंदुआ ग्रामीणों ने की सवारी, लोगों ने खिंचवाई फोटो

कुछ ग्रामीणों ने उसके साथ फोटो क्लिक करवाई तो कुछ ने उसकी पीठ पर बैठकर सवारी की। गांव के मंदिर के पास ग्रामीणों को एक तेंदुआ नजर आया इसके बाद ग्रामीण का पिता गए लेकिन फिर हिम्मत जताकर उसके पास गए हाल के तेंदुए ने काफी देर तक हिंसक नहीं की।

177
Dewas

Dewase News: जंगली जानवरों से लोग ज्यादातर दूर रहना ही पसंद करते हैं। आप लोगों ने तेंदुए की दहशत तो सुनी ही होगी जिस गांव में तेंदुआ दस्तक दे देता है तो वहां के लोगों की नीले उड़ जाती हैं। देवास जिले के सोनकच्छ के गांव इकरोता में मंगलवार दोपहर एक तेंदुआ घुस आया। हालांकि इस तेंदुए से लोग डरे नहीं बल्कि उसके साथ काफी मौज मस्ती की। बताया जा रहा है तेंदुआ बीमार था और ठीक से चल नहीं पा रहा था। उसने हिंसक व्यवहार नहीं दिखाई तो ग्रामीण बिना डरे उसके पास पहुंच गए। कुछ ग्रामीणों ने उसके साथ फोटो क्लिक करवाई तो कुछ ने उसकी पीठ पर बैठकर सवारी की। गांव के मंदिर के पास ग्रामीणों को एक तेंदुआ नजर आया इसके बाद ग्रामीण का पिता गए लेकिन फिर हिम्मत जताकर उसके पास गए हाल के तेंदुए ने काफी देर तक हिंसक नहीं की।

लोगों ने किया पालतू जानवरों जैसा बर्ताव

जब ग्रामीणों को लगा कि बीमार तेंदुए से उन्हें कोई खतरा नहीं है तो सभी उसे पालतू जानवरों की तरह खिलने लगे। ग्रामीणों ने बिल्कुल उसके साथ पालतू जानवर जैसा बर्तवा किया। जैसे ही ग्रामीण तेंदुए के पास गए तो तेंदुए ने कुछ भी नहीं किया दोनों ही एक दूसरे को देखने लगे और डर खत्म हो गया फिर भी तेंदुए के साथ एक पालतू जानवर जैसा news व्यवहार करने लगे। किसी ने तेंदुए की पीठ पर बैठकर सवारी की तो किसी ने फोटो क्लिक करवाई। जब गांव में तेंदुए के होने की खबर वन विभाग को लगी तो एक टीम सोनकक्ष रवाना हुई।

इलाज के लिए ले गई भोपाल

ग्रामीणों ने तेंदुए के साथ बिल्कुल पालतू जानवर जैसा बर्ताव किया लेकिन फिर भी तेंदुए ने कुछ भी नहीं किया। कुछ news ग्रामीणों ने यह नजर कैमरे में भी कैद कर लिया। वही वन विभाग की टीम उज्जैन से गांव पहुंची तुरंत ही तेंदुए को पड़कर उसे इलाज के लिए भोपाल भेज दिया।

Read More-स्वामी प्रसाद मौर्य के बयान से फिर गरमाया राजनीतिक माहौल, बोले-‘हिंदू कोई धर्म नहीं सिर्फ धोखा…’