मणिपुर हिंसा से गुस्साई महिलाओं ने लगाई आरोपी के घर में आग, दर्ज हुई 6000 FIR, हिरासत में 700 लोग

करीब 400 लोगों को इस मामले में हिरासत में लिया जा चुका है. पुलिस के अनुसार कानून व्यवस्था को बनाए रखने के साथ जांच की जिम्मेदारी दी गई है और अधिकारी काम करने में लगे हैं.

666
Manipur Violence

Manipur Violence: बीते दिन मणिपुर में हुए दर्दनाक हादसे के बाद मणिपुर सरकार एक्शन में आ गई है. 3 मई को शुरू हुई हिंसा के बाद से मणिपुर पुलिस ने अभी तक 6000 से अधिक एफआईआर दर्ज कर ली है. मणिपुर पुलिस के दो हजार से ज्यादा सब इंस्पेक्टर इसमें जांच कर रहे हैं. हिंसा से जुड़ी हुई जो एफआईआर दर्ज हुई. उसमें 70 एफआईआर हत्या से जुड़ी हुई हैं. करीब 400 लोगों को इस मामले में हिरासत में लिया जा चुका है. पुलिस के अनुसार कानून व्यवस्था को बनाए रखने के साथ जांच की जिम्मेदारी दी गई है और अधिकारी काम करने में लगे हैं.

गुस्से में फूंका आरोपी का घर

मणिपुर में महिला के हैवानियत मामले में मुख्य आरोपी के साथ चार आरोपियों को अरेस्ट कर लिया गया है. मणिपुर की घटना पर लोगों में बहुत गुस्सा है. दूसरी और गुस्साई भीड़ ने मुख्य आरोपी खुयरेम हेरादास के घर को आग के हवाले भी कर दिया. ज्ञात हो मणिपुर के कांगपोकपी जिले में दो महिलाओं के हैवानियत के खिलाफ भीड़ में गुस्सा दिखाई दिया. गुस्साई हुई भीड़ ने मुख्य आरोपी खुयरेम हेरादास के घर पर हमला बोला और घर को आग लगा दी. गुस्साए लोगों की भीड़ में अधिकतर महिलाएं ही थी.

संसद में हंगामा

बीते दिनों दो महिलाओं के साथ हुए हैवानियत का वीडियो वायरल होने पर पुलिस ने अभी तक मुख्य आरोपी खुयरेम हेरादास के साथ चारों आरोपियों को अरेस्ट किया. राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने राज्य के डीजीपी और मुख्य सचिव को नोटिस जारी करके 4 हफ्ते में इस पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी है.

मुख्यमंत्री वीरेंद्र सिंह ने घटना के आरोपियों को कड़ी सजा दिलाने की बात कही है. उन्होंने बोला कि दोषियों पर फांसी की संभावना पर भी विचार होगा, तो वहीं मणिपुर के राज्यपाल अनुसुइया उइके ने भी इस घटना को बहुत ही अमानवीय बताया राज्यपाल ने डीजीपी से मुलाकात करके जांच के बारे में बात की. मणिपुर की घटना और दिल्ली अध्यादेश के मुद्दे पर भी आज भी ‌ संसद के दोनों सदनों में विपक्ष का हंगामा जारी रहा. लोकसभा की कार्यवाही शुरू होते ही विपक्ष ने मणिपुर की घटना पर हंगामा किया और नारेबाजी करना शुरू कर दिया. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने विपक्ष के हंगामे पर कहा कि सरकार मणिपुर की घटना पर चर्चा के लिए रेडी है, लेकिन कुछ पार्टियां सदन नहीं चलने देना चाहती.

Read More-‘मणिपुर पुलिस ने हमें उन मर्दों के हवाले कर दिया और…’ निर्वस्त्र घुमाई जाने वाली पीड़िताओं ने सुनाई आपबीती