इन राशि वालों की रातों-रात पलटेगी किस्मत, 50 साल बाद बना अद्भुत संयोग

जब यह योग बनता है तो बुद्धि और ज्ञान में वृद्धि होती। इस शुभ संयोग के साथ जन्म लेने वाले जातक बहुत ही भाग्यशाली माने जाते हैं। 50 साल बाद बन रहे इस संयोग से कुछ राज के जातकों को बंपर लाभ होने वाला है।

629
Gajalakshmi Rajyog

Gajalakshmi Rajyog: ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जब कोई ग्रह राशि परिवर्तन करता है तो कई शुभ योगो‌ का निर्माण होता है। उन्हीं में से एक शुभ योग ‘गजलक्ष्मी राजयोग’ भी माना जाता है। गजलक्ष्मी शब्द धन प्रचुरता और सौभाग्य का प्रतीक माना जाता है वहीं राजयोग शक्ति और अधिकार के मिलन का प्रतीक माना जाता है। गज लक्ष्मी राजयोग जब बनता है जब जन्म कुंडली के एक, चार, सात या दसवें घर में बृहस्पति शुक्र और चंद्रमा हो। बृहस्पति बुद्धि और विस्तार का ग्रह है। जब यह योग बनता है तो बुद्धि और ज्ञान में वृद्धि होती। इस शुभ संयोग के साथ जन्म लेने वाले जातक बहुत ही भाग्यशाली माने जाते हैं। 50 साल बाद बन रहे इस संयोग से कुछ राज के जातकों को बंपर लाभ होने वाला है।

कर्क

पदोन्नति की संभावना बन रही है। फिजूल की बातों को बिल्कुल सोचे। सफलता के लिए भावनाओं पर काबू रखें प्रगति के लिए मन लगाकर अपने काम पर ध्यान दें। गजलक्ष्मी राजयोग आपके लिए शुभ साबित होगा।

सिंह

वित्तीय लाभ होगा लेकिन खर्च पर काबू करें। अपने दुश्मनों से दूर रहें। गजलक्ष्मी राजयोग शौर्य और पराक्रम देगा। कानूनी मामलों से बचें। आपको पुराना धन प्राप्त हो सकता है कहीं से कोई खुशखबरी भी मिल सकती है।

तुला

सौभाग्य आपका सहयोगी होगा आय के विभिन्न स्रोतों को फायदा होगा। संतुष्टि के प्रति संतुलित दृष्टिकोण रखें। परिवार के साथ आप अच्छा समय बिताएंगे।

कन्या

पिता और ससुराल पक्ष से आर्थिक लाभ होगा। काले कुत्ते को खाना खिलाना बहुत ही शुभ साबित होगा। बच्चों की प्रगति से खुशियां मिलेंगी। बिजनेस में तगड़ा लाभ होगा, सैलरी में भी बढ़ोतरी हो सकती है।

मिथुन

जीवन साथी के साथ अच्छा समय बिताएं वरना तनाव हो सकता है। गुस्से में कोई काम ना करें हो सके तो हर वक्त दान करें। गजलक्ष्मी राजयोग उन्नति करेगा लाभ और आर्थिक समृद्धि पाएंगे।

(Disclaimer: यहां पर प्राप्त जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है। News India इसकी पुष्टि नहीं करता है।)

Read More-Astrology: 30 दिनों तक अपार कष्ट झेलेंगे ये राशि के लोग, फूंक-फूंककर कर रखना होगा कदम