मतदान से पहले इस प्रत्याशी ने चुनाव लड़ने से किया इनकार, जाने किस उम्मीदवार का नाम हुआ घोषित

गुलाम नबी आजाद डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव आजाद ( डीपीएपी) पार्टी से चुनाव लड़ रहे थे। इस सीट से पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती भी चुनावी मैदान में उतरी है। अब इस सीट पर एडवोकेट मोहम्मद सलीम चुनाव लड़ेंगे।

52
Ghulam Nabi Azad

Gulam Nabi Azad: 19 अप्रैल को लोकसभा चुनाव 2024 के पहले चरण की वोटिंग होनी है। चुनाव शुरू होने से पहले ही शुरू होने अनंतनाग-राजौरी सीट से चुनाव लड़ रहे गुलाम नबी आजाद ने बहुत बड़ा ऐलान किया है। उन्होंने कहा है कि वह लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। गुलाम नबी आजाद डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव आजाद ( डीपीएपी) पार्टी से चुनाव लड़ रहे थे। इस सीट से पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती भी चुनावी मैदान में उतरी है। अब इस सीट पर एडवोकेट मोहम्मद सलीम चुनाव लड़ेंगे।

सलीम परे को बनाया गया उम्मीदवार

पार्टी के प्रोविंशियल प्रेसिडेंट अमीन भट्ट ने इस बात की जानकारी देते हुए कहा है कि,’पार्टी के नेताओं के साथ गुलाम नबी आजाद की एक-दो घंटे बैठक चली। इस बैठक में फैसला लिया गया कि सलीम परे अनंतनाग राजौरी सीट से पार्टी के उम्मीदवार होंगे। गुलाम नबी आजाद ने यह फैसला क्यों लिया इसके पीछे की कुछ तो वजह होगी। वही सभी की सहमति से सलीम परे एक उम्मीदवार बनाने का फैसला किया गया है।’ वही आपको बता दें गुलाम नबी आजाद द्वारा चुनाव न लड़ने के ऐलान पर उमर अब्दुल्ला ने निशाना साधते हुए कहा था कि, ‘नबी आजाद हार के डर से चुनाव नहीं लड़ रहे हैं।’

अमीन भट्ट ने दिया जवाब

उमर अब्दुल्ला के इस बयान पर पार्टी के नेता अमीन भट्ट ने जवाब देते हुए कहा कि,’यह उमर साहब की बौखलाहट है। आजाद साहब ने महाराष्ट्र में दो बार इलेक्शन जीता है वह थोड़ी करेंगे। मीटिंग में दो-दो बार चाय पी गई है सब खुश थे।’ वहीं कांग्रेस सांसद इमरान प्रतापगढ़ी ने भी गुलाम नबी आजाद पर निशाना साधा है।

Read More-‘बेटा छोड़ कर जा रहा हूं, सांसद बना देना..’,UP के इस पहलवान ने मंच से अचानक बेटे को लड़ा दिया था चुनाव