लोकसभा चुनाव से पहले UP के इन दो सांसदो की वायरल तस्वीर ने मचाया हड़कंप, उठ रहे कई सवाल

मानसून सत्र के दौरान की एक ऐसी तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है जिसने हड़कंप मचा दिया है। एक बार फिर से राजनीतिक गलियारों में चर्चा है काफी तेज हो गई है। 

594
UP Politics

UP Politics: लोकसभा चुनाव कि अब काफी जोरों से तैयारियां चल रही है क्योंकि इस चुनाव को होने में अब 1 साल से भी कम समय बचा है। राजनीतिक दलों की ओर से रणनीतियां भी तैयार की जा रही है। कई नए गठबंधन भी होते हुए दिखाई दे रहे हैं। इसी बीच संसद के मानसून सत्र के दौरान की एक ऐसी तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है जिसने हड़कंप मचा दिया है। एक बार फिर से राजनीतिक गलियारों में चर्चा है काफी तेज हो गई है।  तस्वीर में तो ऐसे नेताओं को एक साथ देखा जा सकता है जो अलग-अलग दलों से संबंध रखते हैं।

एक साथ गुटर गू करते दिखे ये दो सांसद

जो तस्वीर सामने आई है उसमें देखा जा सकता है कि समाजवादी पार्टी की सांसद डिंपल यादव और भारतीय जनता पार्टी के सांसद वरुण गांधी एक साथ संसद की लॉबी में दोनों मुद्दे पर चर्चा करते दिखाई दे रहे हैं। वही यह दोनों ही नेता उत्तर प्रदेश से ताल्लुक रखते हैं जहां डिंपल यादव मैनपुरी से सांसद है तो वही वरुण पीलीभीत संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। दोनों सांसदों के तस्वीर सामने आने के बाद इस संभावना को भी बल मिल गया है कि आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर सपा कोई खास रणनीति बना रही है।

अखिलेश और वरुण दोनों कर चुके हैं एक दूसरे की तारीफ

आपको बता दें इससे पहले अखिलेश यादव और वरूण गांधी एक दूसरे की कई मौकों पर तारीफ कर चुके हैं। एक बार अखिलेश यादव ने वरुण गांधी से जुड़े एक सवाल पर कहा था सपा उसी को मैदान में उतारेगी जो कड़ा मुकाबला कर सके। वही वरुण ने अखिलेश की तारीफ में कहा था कि,”मैंने पूरा उत्तर प्रदेश घुमा है क्योंकि अक्सर अखबारों में लेख लिखता हूं। आपने पड़े भी होंगे मैंने एक दिन सोचा कि वह कौन से आर्थिक मानक है जिसके अंतर्गत एक किसान या फिर आम आदमी आ जाए। आखिर वह आत्महत्या करने पर मजबूर होता है।”

वरुण ने कहा, “जब अखिलेश यादव मुख्यमंत्री थे तो मैंने उनको एक चिट्ठी लिखी थी मैंने कहा था कि मान्यवर इसमें कोई राजनीति नहीं है। मैं सिर्फ प्रशासन से जानकारी लेना चाहता हूं कि पूरे उत्तर प्रदेश में कितने लोग हर जिले में इस मानक के अंतर्गत आए हैं तो उन्होंने अपना बड़ा दिल दिखाकर सारे अधिकारियों को बोला कि इसमें कोई राजनीति नहीं है। इनकी मदद करिए यह कुछ करना चाहते हैं जिसके बाद करीब 42000 लोगों की सूची पाई।”

Read More-जम्मू कश्मीर में आतंकियों से हुई मुठभेड़ 3 जवान शहीद, पहाड़ी इलाकों में रवाना हुई एक्स्ट्रा फोर्स