बगावत के बाद पहली बार चाचा Sharad Pawar से मिलने पहुंचे Ajit Pawar, आखिर क्यों खुशी से झूम उठी BJP

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को इनसे सीख लेनी चाहिए। राजनीति को राज्य के स्थापित संस्कृत को खराब नहीं करना चाहिए। अगर वे राजनीतिक और परिवार को अलग रखते हैं तो इसमें कोई समस्या नहीं है।

513
Ajit Pawar and Sharad Pawar

Ajit Pawar: महाराष्ट्र में सियासी घमासान के बीच चाचा शरद पवार पहली बार अजीत पवार मिलने पहुंचे। यह मुलाकात बीते दिन शुक्रवार 14 जुलाई को हुई है। इस मुलाकात पर बीजेपी की पहली प्रतिक्रिया सामने आई है। बीजेपी ने अजित पवार के इस कदम का स्वागत किया है और कहा महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को इनसे सीख लेनी चाहिए। राजनीति को राज्य के स्थापित संस्कृत को खराब नहीं करना चाहिए। अगर वे राजनीतिक और परिवार को अलग रखते हैं तो इसमें कोई समस्या नहीं है।

आशीष शेलार ने दिया बड़ा बयान

आज शनिवार 15 जुलाई को बीजेपी के प्रमुख आशीष शेलार ने बयान देते हुए कहा है कि, उद्धव ठाकरे को इससे सीख लेनी चाहिए। अगर शरद और अजीत पवार राजनीति परिवार को अलग रखते हैं तो अच्छा है। आगामी बीएमसी चुनावों के लिए चारों पार्टियां एकजुट रहेंगी। हमारा परिवार बढ गया है और हम एक बड़ा परिवार होंगे। हम गठबंधन में हैं और हम एक साथ लड़ेंगे। मैहर के मुद्दे पर भी समय फैसला किया जाएगा।

आखिर क्यों चाचा से मिलने पहुंचे थे अजित पवार

चाचा शरद पवार से उप मुख्यमंत्री अजीत पवार इसलिए मिलने पहुंचे क्योंकि उनकी चाची की तबीयत खराब थी। अजित पवार ने कहा कि मेरी चाची की तबीयत खराब है और वह अस्पताल में भर्ती हैं इसीलिए मैं उनसे मिलने गया। उन्हें अपने परिवार से मिलने का अधिकार है। शरद पवार की पत्नी प्रतिभा पवार पार्टी में एक अभिभावक के रूप में मानी जाती हैं। उनको शुक्रवार को दक्षिण मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

Read More-Jyoti Maurya Case: इमोशनल कार्ड खेल रहा मेरा पति, प्राइवेट तस्‍वीरो का सता रहा डर