पत्नी की यादों में पति ने बनवा दिया मंदिर, रोज करने जाता है शाम- सुबह पूजा

रामसेवक पहले सीजनल अमीन था और फिर सन 2015 में स्थाई अमीन हो गए। रामसेवक की पत्नी की मृत्यु में 2020 में हुई थी। पत्नी की मौत के बाद रामसेवक खुद को अकेला महसूस कर रहा था और काफी परेशान भी रहता था।

249
Fatehpur News

Fatehpur News: अपनी पत्नी से प्यार तो हर कोई करता है लेकिन कुछ लोग एक मिसाल ही कायम कर देते हैं। फतेहपुर जिले से एक बहुत ही हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है जिसमें एक पति अपनी पत्नी से इस कदर प्यार करता था उसने अपनी पत्नी की यादों में एक मंदिर बनवा दिया और सुबह शाम उसकी पूजा भी करने जाता है। फतेहपुर जिले में देवमई विकासखंड के पधारा निवासी रामसेवक प्रसाद ने अपनी पत्नी की यादों में एक मंदिर की स्थापना कर दी। रामसेवक पहले सीजनल अमीन था और फिर सन 2015 में स्थाई अमीन हो गए। रामसेवक की पत्नी की मृत्यु में 2020 में हुई थी। पत्नी की मौत के बाद रामसेवक खुद को अकेला महसूस कर रहा था और काफी परेशान भी रहता था।

पत्नी की यादों में हुआ परेशान

रामसेवक जब अपनी पत्नी की यादों में परेशान रहने लगा तो उसके दिमाग में आया की पत्नी का मंदिर बनवा दिया जाए तो उसने पत्नी की यादों में 3 बिस्वा में एक सुंदर मंदिर बनवा दिया। इसके बाद राजस्थान के मकराना से फोटो लेकर संगमरमर की मूर्ति बनवाकर ले आया और पूरे विधि-विधान से शोभायात्रा निकालकर पत्नी की मूर्ति की स्थापना की।

सुबह शाम पत्नी की करने जाता है पूजा

रामसेवक ने बताया कि जब शाहजहां अपनी पत्नी के लिए ताजमहल बनवा सकता है तो मैं एक मंदिर क्यों नहीं बनवा सकता। रामसेवक रोज सुबह पत्नी की पूजा अर्चना करने जाता है और कहता है कि मेरी पत्नी हमेशा मेरे साथ रहती है। यह सब देखकर गांव वाले उसे ताने मारते हैं। रामसेवक ने बताया कि मेरी पत्नी पतिव्रता थी और अतिथियों का आदर करना जानती थी उसने मेरे बच्चों को बहुत ही अच्छी परिवेश दी है।