क्या असली नहीं है रामलाल की आंखों पर बिना पट्टी वाली मूर्ति? वायरल हो रही तस्वीर मंदिर के मुख्य पुजारी ने खड़े किए सवाल

इस वायरल हो रही तस्वीर पर मंदिर के मुख्य पुजारी ने सवाल खड़े कर दिए हैं और उन्हें साफ कह दिया है कि अभी मूर्ति के चेहरे से कपड़ा नहीं हटाया गया है।

156
ram lalla

Ram Mandir Pran Pratishtha: अयोध्या में बने भव्य राम मंदिर की 22 जनवरी को स्थापना होने जा रही है। राम मंदिर के गर्भ ग्रह में रामलला के बाल स्वरूप की मूर्ति विराजमान हो चुकी है। अब इसी बीच सोशल मीडिया पर कुछ तस्वीरें रामलला की काफी तेजी से वायरल हो रही हैं। एक तस्वीर में भगवान श्री राम बाल स्वरूप में दिखाई दे रहे हैं और उनके आंखों पर पट्टी बंधी हुई है जिसे प्राण प्रतिष्ठा के बाद हटाया जाएगा। खाना किसके बाद कुछ और तस्वीरें वायरल हुई जिसमें रामलाल की आंखों पर से पट्टी हटी हुई है और उनका पूरा चेहरा दिख रहा है। अब इस वायरल हो रही तस्वीर पर मंदिर के मुख्य पुजारी ने सवाल खड़े कर दिए हैं और उन्हें साफ कह दिया है कि अभी मूर्ति के चेहरे से कपड़ा नहीं हटाया गया है।

सत्येंद्र दास ने वायरल तस्वीर पर उठाए सवाल

सोशल मीडिया पर जो तस्वीर वायरल हो रही है उनको लेकर अब श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि,”…प्राण प्रतिष्ठा पूरी होने से पहले भगवान राम की मूर्ति की आंखें प्रकट नहीं की जा सकतीं। जिस मूर्ति में आंखें दिख रही हैं, वह भगवान राम की असली मूर्ति नहीं है। फिर भी अगर यह असल मूर्ति है और इसकी आंखें दिखाई गई हैं तो इसकी जांच होनी चाहिए कि ऐसा किसने किया और ये तस्वीर कैसे वायरल हुई।”

इतनी दूर से करने होंगे मूर्ति के दर्शन

आपको बता दे राम लला की मूर्ति बाल स्वरूप की है जो अयोध्या के राम मंदिर में विराजमान होगी। रामलाल की यह मूर्ति 51 इंच की है भक्तों को मूर्ति के दर्शन लगभग 35 फुट दूर से ही करने होंगे। इस मूर्ति पर अगर पानी या दूध भी डाला जाए तो इस पर कोई नुकसान नहीं होगा। 22 जनवरी को इसी मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा होगी और इसके बाद मंदिर का उद्घाटन पीएम मोदी करेंगे। आपको बता दे मूर्ति गर्भ ग्रह में रखने के बाद इसकी तस्वीर मंदिर प्रशासन की ओर से जारी की गई थी जिसमें आंखों पर पट्टी ढकी हुई थी।

Read More-मंदिर के गर्भ ग्रह से रामलला की पहली तस्वीरें आई सामने, बाल स्वरूप में दिखे भगवान श्री राम