सूरज और चांद के बाद अब ‘समुद्रमंथन’ को तैयार भारत, जल्द ही समुद्र की गहराई नापेंगे तीन लोग

पहली बार भारत 23 अगस्त को चांद पर पहुंचा है। चांद के बाद भारत ने हाल ही में एक सूर्य मिशन भी भेजा है जिसका नाम आदित्य एल 1 है। इसके बाद अब भारत एक समुद्र मिशन भेजने की तैयारी में लगा हुआ है।

205
Samudrayaan Matsya 6000

Samudrayaan Matsya 6000 Mission: कई वर्षों से लगातार विश्व के कई बड़े ताकतवर देश अंतरिक्ष के कई रहस्य को खोलने के लिए नए-नए मिशन तैयार करते रहते हैं। कुछ दिनों पहले भारत ने भी अपना एक मून मिशन भेजा था। इसके बाद पहली बार भारत के किसी चंद्रयान ने चंद्रमा की सतह पर कदम रखा है। पहली बार भारत 23 अगस्त को चांद पर पहुंचा है। चांद के बाद भारत ने हाल ही में एक सूर्य मिशन भी भेजा है जिसका नाम आदित्य एल 1 है। इसके बाद अब भारत एक समुद्र मिशन भेजने की तैयारी में लगा हुआ है।

समुद्र मंथन को तैयार भारत

जैसे अंतरिक्ष में अभी तक कई रहस्य का खुलासा नहीं हुआ है इस तरह समुद्र की गहराई में कई रहस्य आज भी वैज्ञानिकों से दूर बने हुए हैं। समुद्र के रहस्य को सुलझाने के लिए भारत एक समुद्र मिशन तैयार कर रहा है। जल्द ही भारत मत्स्य 6000 पनडुब्बी को समुद्र में भेजने जा रहा है। या पनडुब्बी बंगाल की खाड़ी में उतरे जाएगी और यह समुद्र में लगभग 6000 मीटर तक गहराई में जाएगी।

चांद को फतह कर चुका है भारत

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन की तरफ से चंद्रयान-3 को 14 जुलाई के दिन लांच किया गया था इसके बाद चंद्रयान 3 चंद्रमा की सतह पर 23 अगस्त को सफलतापूर्वक उतरा है। इसके साथ पहली बार भारत का झंडा चंद्रमा पर फहराया गया है। इसके साथ भारत चंद्रमा पर पहुंचने वाला चौथा देश बन गया है। भारत से पहले रूस चीन और अमेरिका ही चांद पर पहुंच पाए हैं।

Read More-यूपी में भारी बारिश से 19 लोगों की मौत, मौसम विभाग ने इन राज्यों में जारी किया अलर्ट