सनातन धर्म पर अपमानजनक टिप्पणी करने का मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, बढ़ सकती है दोनों नेताओं की मुश्किलें

याचिका कर्ता विनीत जिंदल ने कहा है कि उदय निधि स्टालिन ने सनातन धर्म को खत्म करने का बयान दिया है लेकिन फिर भी तमिलनाडु पुलिस ने उन पर कोई कार्रवाई नहीं की।

311
Udhayanidhi Stalin

A Raja Remarks: तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन के बेटे उदय निधि स्टालिन ने और डीएमके के नेता ए राजा ने सनातन धर्म को लेकर बहुत ही विवादित बयान दे दिया है। सनातन धर्म पर अपमानजनक टिप्पणी करने का मामला तूल पकड़ता ही जा रहा है। अब इस मामले में उदय निधि स्टालिन और ए राजा की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। दोनों नेताओं के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में गुरुवार यानी आज 7 सितंबर को याचिका दायर की गई है। याचिका कर्ता विनीत जिंदल ने कहा है कि उदय निधि स्टालिन ने सनातन धर्म को खत्म करने का बयान दिया है लेकिन फिर भी तमिलनाडु पुलिस ने उन पर कोई कार्रवाई नहीं की। इतना ही नहीं दिल्ली पुलिस को भी शिकायत दी गई लेकिन फिर भी एफआईआर दर्ज नहीं हुई।

दोनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की उठी मांग

याचिका करता ने दोनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग उठाई है। विनीत जिंदल ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट पहले सभी राज्यों की पुलिस को नफरत फैलाने वाले बयानों पर कार्रवाई का निर्देश दे चुकी है। लेकिन फिर भी तमिलनाडु और दिल्ली पुलिस ने सुप्रीम कोर्ट की अवमानना करते हुए मुकदमा दर्ज नहीं किया। याचिका में दोनों के बयान के बारे में बताया है और दोनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किए जाने की मांग की है।

सनातन धर्म पर दोनों ने दिया अपमानजनक बयान

तमिलनाडु सरकार में मंत्री उदय निधि स्टालिन ने एक विवादित बयान देते सनातन धर्म की तुलना मलेरिया और डेंगू से कर दी उन्होंने कहा कि इस कारण समाज में भेदभाव हो रहा है। हालांकि इसके बाद इन्हें सफाई भी देनी पड़ी थी। उनके बयान के बाद डीएमके नेता ए राजा ने कहा कि सनातन धर्म की तुलना एड्स से की जानी चाहिए। ए राजा ने कहा,”उदयनिधि स्टालिन ने डेंगू और मलेरिया से तुलना करके विनम्रता दिखाई है।

Read More-फिर छिड़ा नया संग्राम! उदयनिधि के सफाई देने के बाद अब इन्होंने दिया सनातन धर्म पर आपत्तिजनक बयान