बजट 2024 पेश होने के बाद बसपा सुप्रीमो मायावती ने उठाए सवाल,कहा-‘बेरोजगारी व बढ़ती हुई महंगाई…’

देश की अर्थव्यवस्था व विकास संबंधी सरकारी दावो व वादों में जमीनी सच्चाई होती तो फिर यहां के 80 करोड़ से अधिक लोगों को फ्री राशन का मोहताज जीवन जीने को मजबूर नहीं होना पड़ता।

124
Mayawati

Budget 2024: केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज गुरुवार को अंतरिम बजट पेश किया है। बजट 2024 पेश होने के बाद विपक्ष केंद्र सरकार पर निशाना साध रहा है। वहीं केंद्र सरकार के इस बजट को लेकर बसपा सुप्रीमो मायावती ने सवाल खड़े कर दिए हैं। पूर्व सीएम मायावती ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर एक पोस्ट शेयर किया है। उन्होंने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था व विकास संबंधी सरकारी दावो व वादों में जमीनी सच्चाई होती तो फिर यहां के 80 करोड़ से अधिक लोगों को फ्री राशन का मोहताज जीवन जीने को मजबूर नहीं होना पड़ता।

मायावती ने बजट को लेकर खड़े किए सवाल

बसपा सुप्रीमो मायावती ने केंद्र सरकार के इस बजट को लेकर सवाल उठाते हुए कहा कि,”केन्द्र सरकार द्वारा लोकसभा चुनाव से पूर्व, संसद में आज पेश बजट जमीनी वास्तविकता से दूर चुनावी लुभावने वाला ज्यादा। इस प्रकार, देश की जनता की अपार गरीबी, बेरोजगारी व बढ़ती हुई मंहगाई आदि से त्रस्त जीवन को नकारना अति-दुःखद व चिंतनीय। इसके साथ ही देश की अर्थव्यवस्था व विकास संबंधी सरकारी दावों व वादों में जमीनी सच्चाई होती तो फिर यहां के 80 करोड से अधिक लोगों को फ्री में राशन का मोहताज जीवन जीने को मजबूर नहीं होना पड़ता।”

क्या बोली वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण

बजट पेश होने के बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि, “राज्य सरकारों द्वारा मील के पत्थर से जुड़े सुधारों का समर्थन करने के लिए 50 साल के ब्याज मुक्त ऋण के रूप में 75,000 करोड़ रुपये का प्रावधान प्रस्तावित किया गया है।” इतना ही नहीं वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, 40 हजार सामान्य रेल डिब्बों को भी वंदे भारत मानकों के अनुरूप बदला जाएगा। वहीं उन्होंने कहा कि बुनियादी ढांचे के विकास और रोजगार सृजन के लिए पूंजीगत व्यय परिवव्य 11.1 प्रतिशत बढ़ाकर 11,11,111 करोड रुपए किया जाएगा जो घरेलू उत्पाद का 3.4 प्रतिशत होगा।

Read More-ज्ञानवापी के व्यास तहखाने में पहली बार हुई पूजा -अर्चना, मुस्लिम पक्ष ने जताई नाराजगी