न होगो सात फेरे, ना होगा निकाह, जाने फिर किस तरह से होगी सोनाक्षी सिन्हा और जहीर इकबाल की शादी

सोनाक्षी सिन्हा के फैंस इस बारे में जाने के लिए काफी जोरों से बेताब है कि सोनाक्षी और जहीर किस रीती रिवाज में शादी करेंगे। दोनों साथ फेरे लेंगे या फिर निकाह करेंगे।

95
sonakshi sinha and zaheer iqbal

Sonakshi Sinha: बॉलीवुड इंडस्ट्री की फेमस अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा और जहीर इकबाल आज शादी के बंधन में बंधने जा रहे हैं। सोनाक्षी सिन्हा और जहीर इकबाल अलग-अलग धर्म के हैं जहीर इकबाल मुस्लिम है और सोनाक्षी सिन्हा हिंदू है। सोनाक्षी सिन्हा के फैंस इस बारे में जाने के लिए काफी जोरों से बेताब है कि सोनाक्षी और जहीर किस रीती रिवाज में शादी करेंगे। दोनों साथ फेरे लेंगे या फिर निकाह करेंगे। अब इसी बीच सोनाक्षी सिन्हा और जहीर इकबाल की शादी को लेकर बहुत बड़ी जानकारी सामने आई है।

इस तरह से करेंगे सोनाक्षी और जहीर शादी

अलग-अलग धर्म की वजह से सोनाक्षी सिन्हा और जहीर इकबाल को काफी ट्रोल भी किया जा रहा है। यहां तक भी कहा गया था कि सोनाक्षी की शादी से है उनके पिता शत्रुघ्न सिन्हा खुश नहीं है। हालांकि इन खबरों को शत्रुघ्न सिन्हा ने खारिज करते हुए कहा कि वह अपनी बेटी के फैसले से खुश हैं। अब इसी बीच खबरें आ रही है कि सोनाक्षी सिन्हा और जहीर इकबाल ना ही वह निकाह करेंगे और ना ही साथ फेरे लेंगे। रिपोर्ट्स के मुताबिक सूत्रों ने बताया कि ना ही शादी के लिए और ना ही शादी के बाद सोनाक्षी सिन्हा अपना धर्म बदलेंगी। जाहिर इकबाल से शादी करने के बाद भी एक्ट्रेस हिंदू बनी रहेगी। वे शादी के बाद अपने नाम में भी बदलाव नहीं करेंगी। सोनाक्षी की शादी 1956 के स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत एक रजिस्टर्ड मैरिज होगी इसका दोनों ही धर्म से कोई लेना-देना नहीं है।

जाने क्या होते हैं स्पेशल मैरिज एक्ट के नियम

दरअसल स्पेशल मैरिज एक्ट के कुछ नियम होते हैं जिनका पालन करना बहुत ही जरूरी माना जाता है। जब भी शादी करनी होती है उसे 30 दिन पहले कोर्ट में नोटिस देना पड़ता है। जिस जिले में नोटिस दिया गया हो उसे जिले में महिला या पुरुष दोनों में से किसी एक का 30 दिन तक रहना जरूरी माना जाता है। महिला और पुरुष दोनों को ही मैरिज रजिस्टर के ऑफिस में सिग्नेचर करना पड़ता है। स्पेशल मैरिज एक्ट के कारण शादी में कोई रस्में नहीं निभाई जाती हैं। स्पेशल मैरिज एक ऐसा एक्ट है जो भारतीय संविधान के तहत दो अलग धर्म के लोगों को शादी करने की अनुमति देता है। यह केवल हिंदू और मुस्लिम ही नहीं बल्कि अन्य धर्मों के लोगों के लिए भी काम करता है।

Read More-दोस्त का बर्थडे सेलिब्रेट करने पहुंचे Ms Dhoni, वायरल हो रहा माही का वीडियो