कैसे पता करें कुंडली में शनि शुभ है या अशुभ? दिखते हैं ऐसे लक्षण

शनि का नाम सुनते ही लोग डर जाते हैं क्यों कि शनि की टेढ़ी नजर जीवन को तबाह कर देती है। कुंडली में यदि शनि उच्च का है तो व्यक्ति को फर्श से अर्श पर पहुंचा देते हैं।

267
Shani dev

Kundli Me Shani: शनि देव को न्याय का देवता कहा जाता है। क्योंकि जब शनि किसी राशि के जातक की कुंडली में अशुभ भाव पर होते हैं तो इंसान को बहुत ही परेशानियों का सामना करना पड़ता है। शुभ शनि रंग को राजा बना देते हैं और अशुभ इंसान को कंगाल बना देते हैं। शनि का नाम सुनते ही लोग डर जाते हैं क्यों कि शनि की टेढ़ी नजर जीवन को तबाह कर देती है। कुंडली में यदि शनि उच्च का है तो व्यक्ति को फर्श से अर्श पर पहुंचा देते हैं।

जाने शनि के शुभ और अशुभ लक्षण

अगर शनि आपकी कुंडली में अशुभ है तो जातक के बाल झड़ते हैं और बेजान भी रहते हैं। उसके नाखून टूटे कमजोर और गंदे रहते हैं। शनि के अशुभ प्रभाव के कारण उसके घर में आग लग सकती है या घर गिर सकता है। कर्ज में डूब जाता है। यदि कुंडली में शनि शुभ हो तो जातक हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त करता है। ऐसा व्यक्ति को मान सम्मान पाता है व्यक्ति के मजबूत और चमकदार नाखून व बाल बताते हैं कि कुंडली में शनि शुभ है।

शनि के उपाय

शनि के अशुभ प्रभावों को दूर करने के लिए जातक को शनिवार को छाया दान करना चाहिए। इसके लिए कांसे के कटोरे में सरसों का तेल भर फिर उसमें अपना चेहरा देखकर कटोरा और तेल मंदिर में रखकर दान कर दें। गरीब और असहाय लोगों की मदद करें लोगों के साथ अच्छा व्यवहार करें। शनिवार को शनि देव की पूजा अर्चना करनी चाहिए।

Read More-5 दिसंबर तक मौज -मौज ही काटेंगे ये राशि के लोग, करियर में मिलेगी सफलता