एक हिंदू तो दूसरा मुस्लिम.., रामलला के दर्शन करने के लिए आगरा से अयोध्या पैदल निकल पड़े दो दोस्त

ताज नगरी आगरा से सामाजिक सौहार्द की मिसाल पेश करते हुए दो दोस्त अयोध्या के लिए रवाना हो चुके हैं। यह किसी वहां से नहीं बल्कि पैदल ही आगरा से अयोध्या के लिए निकल पड़े हैं इनमें से एक हिंदू है तो दूसरा मुसलमान है।

135
ram mandir

Ramlala Pran Pratishtha: 22 जनवरी को अयोध्या में बने भव्य राम मंदिर की होने जा रही प्राण प्रतिष्ठा को लेकर पूरा देश भक्ति में हो गया है। हर हिंदू चाहता है कि वह राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा अपने आंखों से होता हुआ देखें। रामलाल के प्राण प्रतिष्ठा का अनुष्ठान 16 जनवरी से शुरू हो गया है जो 22 जनवरी को पूर्ण होगा। इस कार्यक्रम को लेकर राम भक्तों का उत्साह बढ़ता ही जा रहा है। अब इसी बीच ताज नगरी आगरा से सामाजिक सौहार्द की मिसाल पेश करते हुए दो दोस्त अयोध्या के लिए रवाना हो चुके हैं। यह किसी वहां से नहीं बल्कि पैदल ही आगरा से अयोध्या के लिए निकल पड़े हैं इनमें से एक हिंदू है तो दूसरा मुसलमान है।

राम मंदिर को लेकर क्या बोले उस्मान अली

आगरा से पैदल अयोध्या के लिए यात्रा करने वाले 30 वर्षीय उस्मान अली ने बताया कि भगवान श्री राम सबके हैं मुझे मुस्लिम होने पर गर्व है लेकिन श्री राम की पूजा के लिए हिंदू होना जरूरी नहीं है। इंसान का दिल साफ होना जरूरी है राम जी सिर्फ भारत के नहीं बल्कि पूरी दुनिया के हैं उनकी पत्नी समीरा खातून ने भी उनका मनोबल बढ़ाया है। पैदल यात्रा करने वाले उस्मान और प्रिंस ने कहा, इस समय पूरा देश राम मय हो रहा है। केवल हिंदुओं में राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा को लेकर उत्साह नहीं बल्कि मुस्लिम भी इससे खुश हैं। उस्मान अली और प्रिंस शर्मा ने बताया कि वह राम नाम के सहारे 480 किलोमीटर की पैदल यात्रा करेंगे और इसके बाद भगवान श्री राम के दर्शन करेंगे।

हाथों में भगवा ध्वज और पीठ पर राम मंदिर की तस्वीर

वही इन दोनों राम भक्तों के हाथों में भगवा ध्वज और पीठ पर राम मंदिर की तस्वीर देखी जा सकती है। ताज नगरी आगरा से सामाजिक सुधार की मिसाल पेश करते हुए दोनों दोस्त और राम की भक्ति में लीन अयोध्या के लिए रवाना हो चुके हैं। वही इन दोनों दोस्तों को लोग दुआएं और आशीर्वाद दे रहे हैं।

Read More-वर्ल्ड कप 2024 से पहले आखिरी T20 इंटरनेशनल मैच खेलेगा भारत, इन खिलाड़ियों की हो सकती है प्लेइंग XI में एंट्री