नई दिल्ली। कोरोना वायरस के बढ़ते संकट के कारण देश में जारी लॉकडाउन का वजह से सबसे अधिक अगर कोई परेशान है तो वे हैं प्रवासी मजदूर हैं। देश में लॉकडाउन के बाद प्रवासी मजदूरों का काम जाने की वजह से उनके सामने सबसे बड़ा संकट रोजी रोटी का खड़ा हो गया। ऐसे में ये प्रवासी मजदूर मजबूरी के चलते अपने घर की ओर पलायान करने को मजबूर हो गए। प्रवासी मजदूरों  के इस दर्द को लेकर देश की सियासत में गर्माहट आ गई है। इस बीच कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और वायनाड से लोकसभा सांसद राहुल गांधी ने यूट्यूब पर वीडियो जारी कर मजदूरों का दर्द दिखाया है। इसके साथ ही राहुल गांधी ने सरकार से इनकी सहायता की अपील की है। इतना ही नहीं राहुल ने सरकार तुरंत ही इन 13 करोड़ प्रवासी मजदूरों के लिए 7500 रुपये देने की मांग की है। बीते 16 मई को कांग्रेस नेता राहुल गांधी दिल्ली की सड़कों पर मजदूरों से मिले थे।

यह भी पढ़ें:-सेना के अधिकारियों ने पुलिसकर्मियों से कही ऐसी बात, अनुपम खेर बोले- ‘शब्दों को सुनिए’

इसी मुलाकात पर बनाई गई एक डॉक्यूमेंट्री खुद राहुल ने अपने यू ट्यूब चैनल पर रिलीज की है। मजदूरों के साथ राहुल की इस मुलाकात पर काफी हंगामा हुआ था। प्रियंका गांधी ने इसके लिए भाई को शाबासी दी थी, लेकिन भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने इसे फोटोशूट बताया था। राहुल गांधी ने बीते शनिवार यानि 16 मई को दिल्ली के सुखदेव विहार फ्लाईओवर के पास प्रवासी मजदूरों से मुलाकात की थी। इतना ही नहीं राहुल ने फुटपाथ पर मजदूरों के साथ बैठकर बात की थी। राहुल ने उनका दुख दर्द साझा किया था और घर भेजने में भी काफी मदद की थी।

बता दें कि लगातार देश में कोरोना के बढ़ते मामले के मद्देनजर लगे लॉकडाउन की सर्वाधिक मार प्रवासी मजदूरों पर पड़ी है। वह लगातार पैदल ही पलायन कर रहे हैं। पिछले दिनों राहुल गांधी ने पैदल अपने घर यूपी जा रहे प्रवासी मजदूरों से बात करके उन्हें वाहन से घर भिजवाया था। इस पर वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने तंज भी किया था। आज राहुल ने अपनी प्रावासी मजदूरों से मुलाकात का वीडियो शेयर किया है।

यह भी पढ़ें:-इस देश ने बनाई कोविड-19 की दवा, उम्मीद बेहतर मिल रहे परिणाम