Saturday, October 16, 2021

रंगरलियां मनाते हुए पकड़े गया आशिक मिजाज दारोगा, खंभे से बांधकर ग्रामीणों ने की जमकर पिटाई, वीडियो वायरल

- Advertisement -
- Advertisement -

बस्ती। उत्तर प्रदेश के बस्ती (Basti) में एक आशिक मिजाज दरोगा की ग्रामीणों ने बुधवार को जमकर पिटाई कर दी। दुबौलिया थाने पर तैनात दरोगा को एक युवती के घर से निकलते हुए ग्रामीणों ने देर रात पकड़ लिया। दारोगा पर ग्रामीणों ने रंगरेलियां मनाने का आरोप लगाया तो दरोगा भड़क गया और उसने पिस्टल से फायर कर दिया, जिसके बाद नाराज ग्रामीणों ने दारोगा को खंभे से बांधकर लाठी-डंडों से पीटना शुरू कर दिया। गुरुवार सुबह करीब 4 बजे दुबौलिया थानाध्यक्ष मौके पर पहुंचे और वो अपने साथ आशिक मिजाज दारोगा को ले गए। फिलहाल इस घटनाक्रम का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो चुका है।

इसे भी पढ़ें : देवबंद के मौलाना ने तालिबान का किया समर्थन, कहा- बदल गया है वो, भारत सरकार दे मान्यता

दुबौलिया थाने के हल्का नंबर-2 का दरोगा अशोक कुमार चतुर्वेदी एक किराए के मकान में चिलमा बाजार में रहता है। पिछले दो साल से आशिक मिजाज दरोगा के चर्चा पूरे इलाके में है। वरिष्ठ अधिकारियों से ग्रामीणों ने 4 महीने पहले भी दरोगा के खिलाफ शिकायत की थी, जिसके बाद उसे दुबौलिया थाने से हटा भी दिया गया लेकिन उसने दोबारा कोई जुगाड़ लगाया और वापस वो दुबौलिया आ गया। बुधवार को अशोक कुमार बाइक से थाना क्षेत्र के ऊंजी गांव पहुंचा और एक घर के अंदर चला गया।

दारोगा घर के अंदर था और ग्रामीण बाहर उसका लाठी–डंडा लेकर इंतजार कर रहे थे। गुरुवार सुबह करीब तीन बजे जब अशोक कुमार घर से बाहर निकला तो गांव वालों ने उसे घेर लिया। इस दौरान उसने सरकारी पिस्टल से गांव वालों को डराने के लिए हवा में गोली चला दी, जिसके बाद ग्रामीणों का गुस्सा भड़क गया और उन्होंने दारोगा को खंभे से बांधकर पीटना शुरू कर दिया। ग्रामीणों ने दारोगा को पीटने के बाद दुबौलिया थानाध्यक्ष मनोज त्रिपाठी को मामले की जानकारी दी, जिसके बाद मौके पर पहुंचे थानाध्यक्ष ने गांव वालों को समझाकर अशोक कुमार छुड़ाकर ले गए।

बस्ती जिले में अशोक कुमार चतुर्वेदी कोई पहले दारोगा नहीं हैं जो अपने आशिक मिजाज होने की वजह से चर्चा में आया हो। इससे पहले सदर कोतवाली में तैनात एसआई दीपक सिंह पर भी काजल सिंह नाम लड़की ने गंभीर आरोप लगाए थे। पीड़िता का कहना था कि दीपक सिंह उसे फ़ोन करके परेशान करता है। जब पीड़िता ने उसका नंबर ब्लॉक कर दिया तो दीपक सिंह ने पीड़िता के परिजनों पर 8 मुकदमें दर्ज कर दिए थे। काजल ने मामले की शिकायत राज्य महिला आयोग से भी की थी, जिसके बाद एसआई दीपक सिंह को लाइन हाजिर कर दिया गया था।

इसे भी पढ़ें : LPG सिलेंडर के दाम बढ़ने पर अखिलेश ने कसा तंज, कहा – उज्ज्वला योजना का नाम बदलकर ‘बुझव्वला योजना’ कर दे सरकार

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -