विकास दुबे से जुड़ा शहीद सीओ का आडियो वायरल, खूनी रात का काला सच आया सामने

1552

लखनऊ। कानपुर के बिकरू गांव कांड के मुख्य आरोपी विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद से अब तक घटना से जुड़े कई आडियो और वीडियो सामने आ चुके है। इसी कड़ी में कुछ और आडियो सामने आए हैं। इन आडियो के आने के बाद 2 जुलाई की उस काली रात की सच्चाई सामने आ गई है जिसके चलते 8 पुलिसकर्मियों को शहीद होना पड़ा था। विकास दुबे अपराधी था यह सबको पता है। लेकिन ऐसे अपराधी को संरक्षण देने वाले क्या किसी अपराधी से कम हैं। वायरल हो रहे आडियो से पता चलता है कि दबिश वाली रात सीओ की हत्या कराने की चौबेपुर पुलिस की पूरी तैयारी थी।

इसे भी पढ़ें: कोरोना मय हो रही हवा, जानें भीड़—भाड़ वाले क्षेत्रों में सांस लेना है कितना खतरनाक

घटना के बाद यह तो पता चल ही गया था कि विकास दुबे की पुलिसवालों में अच्छी पैठ थी। लेकिन चौबेपुर थानाध्यक्ष विकास तिवारी अपराधियों से साठगांठ व पैसे के चलते किस तरह अपने सीनियर अधिकारी सीओ देवेंद्र मिश्र पर भारी पड़ गया था। नतीजा यह हुआ कि दबिश वाली रात दो जुलाई को सीओ समेत आठ पुलिसकर्मियों की निर्मम हत्या कर दी गई थी।

वायरल आडियो से पता चल रहा है कि दबिश से ठीक पहले सीओ ने एसपी ग्रामीण से बातचीत की थी। उन्होंने एसपी ग्रामीण से फोन पर कहा था कि एसओ विनय तिवारी अपराधी विकास दुबे का पैर छूता है। सीओ ने एसपी आरए से यह भी अंदेशा जताया था कि विनय तिवारी ने विकास दुबे को दबिश की सूचना दे दी होगी। विकास दुबे को अब तक वह मौके से भगा दिया होगा।

आडियो से पता चल रहा है कि इस बातचीत के दौरान कोई तीसरा भी वहां मौजूद था। इससे पता चल रहा है कि यह आडियो हाल ही का है। इस दौरान सीओ ने विनय तिवारी पर क्षेत्र में जुआ खेलाने का भी आरोप लगाया था। उन्होंने यह भी कहा कि जुआ खेलाने वालों को जब मैंने पकड़ा तो एसओ ने उन लोगों से लिए 5 लाख रुपये डीआईजी अनंत देव तिवारी को देकर मामले को रफा—दफा करा दिया था।

गौरतलब है कि बीते महीने दो जुलाई को पुलिस हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे ने घर दबिश देने गई थी। इस दौरान पहले से घात लगाए विकास दुबे व उसके गुर्गों ने सीओ देवेंद्र मिश्रा समेत 8 पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी थी। आठ पुलिसकर्मियों की हत्या से पूरा सूबा दहशत में आ गया था। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मामले को गंभीरता से लेते हुए पुलिस को विकास दुबे को जिंदा या मुर्दा पकड़ने की पूरी छूट दे दी थी। वहीं पुलिस भी बदला लेने के लिए विकास दुबे के घर व गाड़ियों को उसी की बुल्डोजर से तहस—नहस कर दिया था।

इसे भी पढ़ें: लड़की के प्रेमी को माता-पिता ने धोखे से बुलाया घर, फिर किया ऐसा कि उड़ जाएंगे होश