न मिला न्योता और न ही शिलापट्ट पर लिखवाया नाम, शिलान्यास कार्यक्रम में विधायक ने काटा हंगामा

84

जौनपुर। भाजपा शासित राज्य में पार्टी के विधायक अफसरों की अनदेखी का शिकार हो रहे हैं, तो वहीं कुछ जनप्रतिनिधि भी ऐसे हैं जो अपनी सामाजिक मर्यादा को लांघने में भी गुरेज नहीं कर रहे। ऐसा ही मामला उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले के बलुआ गांव से सामने आया है। यहां आयोजित शहीद स्मारक शिलान्यास कार्यक्रम में शामिल होने का न्योता न मिलने और शिलापट्ट पर नाम न अंकित होने की वजह से स्थानीय विधायक रमेश चंद्र मिश्र ने कार्यक्रम में पहुंचकर जमकर हंगामा काटा है। बदलापुर विधानसभा सीट से भाजपा विधायक रमेश चंद्र मिश्र का नाम यहां लगने वाले शिलापट्ट पर नहीं था। इससे नाराज भाजपा विधायक शिलान्यास कार्यक्रम में पहुंचकर मौजूद अफसरों को जमकर लताड़ लगाई, और इसके आयोजकों पर भी अपना गुस्सा निकाला।

इसे भी पढ़ें: PMO से मिली शिकायत के बाद UP में सीज होंगे ऐसे वाहन, परिवहन आयुक्त ने दिए आदेश

जानकारी के अनुसार बलुवा गांव में शहीद स्मारक गेट का शिलान्यास कार्यक्रम चल रहा था। आयोजन के शिलापट्ट से भाजपा विधायक का नाम गायब था। इतना ही नहीं अफसरों ने कार्यक्रम में विधायक को आमंत्रित भी नहीं किया था। विधायक को जब इस कार्यक्रम की जानकारी मिली तो वह अपने समर्थकों के साथ आयोजन स्थल पर पहुंच गए। इसके बाद उन्होंने मौजूद अधिकारियों को जमकर लताड़ लगाई। इतना ही नहीं उन्होंने इस मामले की शिकायत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से करने की बात कहकर चले गए।

विधायक की नाराजगी की खबर लगते ही कार्यक्रम में शामिल होने आ रहे अफसर भी बीच रास्ते से ही लौट गए। वहीं शहीद जमींदार सिंह के प्रपौत्र प्रभात विक्रम सिंह ने विधायक के इस रवैये को लेकर कड़ी नाराजगी जताई है। जबकि भाजपा विधायक रमेश चन्द्र मिश्र का कहना है कि विधायकों के विधानसभा क्षेत्र में सरकारी विभागों की तरफ से कराए जा रहे विकास कार्यों के शिलापट्ट में स्थानीय विधायक के नाम के साथ ही उनको आमंत्रण दिया जाना चाहिए। इसको लेकर सरकार की तरफ से शासनादेश भी जारी किया है। इसके बावजूद भी अफसरों ने न तो मुझे कार्यक्रम में आमंत्रित किया और न ही शिलापट्ट में मेरा नाम लिखवाया।

इसे भी पढ़ें: एमपी: विधानसभा सत्र पर मंडराया कोरोना का खतरा, शीतकालीन सत्र से पहले 34 कर्मचारी मिले संक्रमित