उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव की आरक्षण सूची जारी, जानें किसके खाते में गईं कितने सीटें

549

लखनऊ। यूपी में होने वाले त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव (Panchayat Election) के लिए सभी जिला पंचायत अध्यक्षों की आरक्षण सूची (Reservation list) आज जारी कर दी गई है। अनुसूचित जाति की महिलाओं के लिए लखनऊ, सीतापुर, हरदोई, शामली, बागपत, कौशांबी की सीट आरक्षित किया गया है। जिला पंचायत अध्यक्ष स्त्रियों पद के लिए मऊ, प्रतापगढ़, कन्नौज, अमेठी, गाजीपुर, बहराइच, जौनपुर, हमीरपुर, सोनभद्र, कासगंज, फिरोजाबाद, मैनपुरी की सीट आरक्षित हुई है।

इसे भी पढ़ें: पटाखा फैक्ट्री में लगी आग, हुए कई विस्फोट, 11 की मौत, कई घायल, पीएम ने जताया दुख

अनुसूचित जाति के लिए चित्रकूट, महोबा, कानपुर नगर, बाराबंकी, लखीमपुर खीरी, औरैया, रायबरेली, मिर्जापुर, झांसी और जालौन की सीट जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए आरक्षित की है। जिला पंचायत अध्यक्ष अन्य पिछड़ा वर्ग स्त्री के लिए कुशीनगर, वाराणसी, बरेली, बदायूं, संभल, हापुड़, एटा की सीट आरक्षित है।

जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए फतेहपुर, कानपुर देहात, गोंडा, बलरामपुर, श्रावस्ती, प्रयागराज, देवरिया, महाराजगंज, गोरखपुर, सुल्तानपुर, शाहजहांपुर, सिद्धार्थनगर, अमरोहा, मेरठ, बुलंदशहर, अयोध्या, मुरादाबाद,अलीगढ़, हाथरस, उन्नाव, भदोही, गाजियाबाद ,गौतमबुद्धनगर, बिजनौर, रामपुर, आगरा, मथुरा की सीट अनारक्षित रहेगी।

जिला पंचायत अध्यक्ष अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए अंबेडकर नगर, पीलीभीत, चंदौली, सहारनपुर, बांदा, ललितपुर, मुजफ्फरनगर, बस्ती, संतकबीरनगर,आजमगढ़, बलिया, इटावा, फर्रुखाबाद की सीट आरक्षित हुई है।

ज्ञात हो कि, इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने उत्तर प्रदेश को आदेश दिया था कि, वो 17 मार्च तक आरक्षण प्रक्रिया पूरी करके 30 अप्रैल तक राज्य में पंचायत चुनाव कराए। राज्य में अप्रैल महीने में 58,194 ग्राम पंचायतों, 7,31,813 ग्राम पंचायत सदस्यों, 3,051 जिला पंचायत सदस्यों और 75,855 क्षेत्र पंचायत सदस्यों का चुनाव होना है। इन चुनावों के बाद राज्य में 75 जिला पंचायत अध्यक्षों के साथ 826 ब्लाक प्रमुखों का भी चुनाव होना है।

अब तक मिली जानकारी के अनुसार, मार्च की शुरुआती हफ्ते में प्रधानों, ग्राम पंचायत, जिला पंचायत के रिजर्व चुनावी क्षेत्र के विनियोजिन की प्रस्तावित लिस्ट डीएम द्वारा प्रकाशित कराई जाएगी। इसे लेकर लिखित में आपत्ति भी दर्ज कराई जा सकती है। इसके बाद इन सभी आपत्तियों का निस्तारण होगा और दोबारा अंतिम सूचि प्रशासन द्वारा तैयार की जाएगी।

इसे भी पढ़ें: झोपड़ी में अवैध शराब की फैक्ट्री देख दंग हुई पुलिस, दो गिरफ्तार, सात लाख का माल बरामद