चोर ने अपनाया मास्क का नायाब तरीका, पुलिसवालों के छूटे छक्के

73

गोरखपुर। चोर की फितरत है दूसरे को चकमा देना। कोरोना काल के दौरान मास्क जहां इस वायरस से बचाने का काम कर रहा वहीं पहचान छिपाने में भी मदद कर रहा है। गोरखपुर के शाहपुर में ऐसा ही मजेदार वाक्या सामने आया है। जहां एक चोर रविंद्र सिंह उर्फ रवि जिला अस्पताल से पुलिस को चकमा देकर फरार हो गया। हालांकि थोड़ी देर में पुलिसवालों से उसे ढूंढ निकाला और उसके बाद उसकी जो पुलिसिया खातिरदारी हुई चोर उसे जिंदगी भर नहीं भूल पाएगा। बता दें कि पुलिस मेडिकल जांच कराने के लिए चोर को जिला अस्पताल लेकर आई थी। जब वो लोग अस्पताल पहुंचे तो यहां काफी भीड़ थी, जिस पर चोर ने पुलिस वालों से पेशाब जाने का बहाना बनाया और बाथरूम में घुस गया।

इसे भी पढ़ें: राहुल गांधी ने व्हाट्सएप पर लगाया भाजपा के नियंत्रण में होने का आरोप, दिया यह तर्क

पुलिसवाले सामने रखी बेंच पर बैठकर उसके निकलने का इंतजार करने लगे। काफी देर तक जब वह नहीं निकला तो सिपाही बाथरूम में गए पर वहां भी कोई नहीं था। यह देख सिपाहियों के होश उड़ गए और पूरे अस्पताल में अफरा—तफरी को माहौल बन गया। पुलिस ने तीन घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद चोर रविंद्र सिंह को राजघाट के अमुरतानी में धर दबोचा। इसके बाद पुलिसवालों ने उस पर जमकर अपनी नाकामी की भड़ास निकाली।

टॉयलेट से भागने के बारे में पूछताछ में मालूम चला कि इमर्जेंसी के बाथरूम से सटे दूसरे हिस्से में सफाई कर्मचारियों का यूनिफार्म व मास्क रखा था और रविंद्र सिंह उसे ही पहनकर आराम से पुलिसवालों के सामने से निकल गया था। मास्क और सफाई कर्मचारी का कपड़ा पहने होने की वजह से कोई भी उसे पहचान नहीं सका और वह पैदल सबके बीच से अमुरतानी तक पहुंच गया।

इसे भी पढ़ें: रोजगार दो अभियान का दूसरा चरण शुरू, पवन खेड़ा ने मोदी सरकार पर बोला हमला