Saturday, October 16, 2021

हरियाणा-यूपी बॉर्डर पर तनाव, सिद्धू के नेतृत्व कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मचाया हंगामा

- Advertisement -
- Advertisement -

सहारनपुर। लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में भले ही सरकार और किसानों के बीच समझौता हो चुका है लेकिन विपक्ष इस मुद्दे को लेकर चुनाव तक जाना चाहता है। घटना के चार दिन बाद भी किसी भी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है। इस बीच हिंसा की न्यायिक जांच के लिए एक सदस्यीय आयोग का गठन कर दिया गया है। वहीं विपक्ष की मांग है कि आरोपियों की तुरंत गिरफ्तारी हो और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा को उनके पद से हटाया जाये। अखिलेश यादव, सतीश मिश्रा, नवजोत सिंह सिद्दू सहित सभी विपक्षी नेता हिंसा के पीड़ित परिवारों से मिलेंगे।

इसे भी पढ़ें : BJP की राष्ट्रीय कार्यकारिणी से मेनका-वरुण बाहर, सरकार के खिलाफ बयानबाजी पड़ी भारी

वहीं प्रियंका गांधी वाड्रा, राहुल गांधी ने बुधवार को पीड़ितों से मुलाकात की है। नवजोत सिंह सिद्धू के नेतृत्व महोली से कांग्रेस के बड़ी संख्या में कार्यकर्ता लखीमपुर के लिए निकले हैं, जिन्हे अब यूपी के सहारनपुर में रोक लिया गया है। इस बीच कांग्रेस समर्थकों ने बैरिकेडिंग तोड़ने की भी कोशिश की है। हरियाणा-यूपी सीमा पर तनाव का माहौल बन चुका है।

इस बीच लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में यूपी पुलिस ने गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा (Ajay Mishra) के बेटे आशीष मिश्रा (Ashish Mishra) की तलाश में छापेमारी शुरू कर दी है। आईजी लक्ष्मी सिंह (IG Laxmi Singh) ने मामले को लेकर बड़ा बयान देते हुए कहा है कि आशीष मिश्रा की तलाश जारी है और उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा।

आईजी के बयान से साफ़ पता चलता है कि पुलिस जानकारी नहीं है कि हिंसा का आरोपी आशीष मिश्रा कहां है। वहीं मंगलवार तक आशीष लगातार मीडिया से बात करते हुए हिंसा को लेकर सफाई दे रहे थे और किसी भी तरह की जांच में सहयोग करने के लिए तैयार थे।

इसे भी पढ़ें : PM मोदी ने देश को दी 35 ऑक्सीजन प्लांट की सौगात, कहा – कल्पना भी नहीं की थी कि कभी बनूंगा प्रधानमंत्री

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -