spot_img
Friday, September 17, 2021

विधानसभा चुनाव 2022 : पूर्व सांसद फूलन देवी की मूर्ति लगाएगी सपा, प्रशासन अलर्ट

- Advertisement -
- Advertisement -

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव (Assembly Election) से पहले सभी राजनीतिक दल माहौल बनाने में जुट गए हैं। इस क्रम में समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) पूर्व सांसद स्व.फूलन देवी (Phoolan Devi) की मूर्ति रायबरेली के ऊंचाहार के खंधारीपुर मजरे जब्बारीपुर गांव में लगाएगी। पार्टी 20 सितंबर को मूर्ति का अनावरण करेगी। पूर्व सांसद की मूर्ति के अनावरण के कार्यक्रम सपा पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष डॉ.राजपाल कश्यप, पार्टी विधायक और प्रबुद्ध सभा के प्रदेश अध्यक्ष डॉक्टर मनोज पांडे मौजूद रहेंगे। वहीं मूर्ति लगवाने को लेकर अब तक अनुमति नहीं ली गई है। कोतवाल विनोद कुमार सिंह ने बताया कि गांव में फूलन देवी की मूर्ति लगाने की योजना के बारे में जानकारी हुई है। प्रधान को बिना परमीशन मूर्ति न लगाने को कहा गया है।

इसे भी पढ़ें : लखनऊ में दाखिल की गई जावेद अख्तर के खिलाफ मुकदमे की अर्जी, जानें मामला

आगामी चुनाव में निषाद वोटों को एकजुट करने की तैयारी में मुकेश सहनी (Mukesh Sahni) लगे हुए हैं। पिछले दिनों ही उन्होंने अपना दल भी बनाया है बिहार सरकार में मंत्री बने मुकेश सहनी अब दिल्ली जाने की चाह रखते हैं। दिल्ली जाने के लिए उत्तर प्रदेश से जीतकर गुजरना पड़ेगा। यही वजह है कि 2022 के विधानसभा चुनाव में मकेश साहनी पूरे दमखम के साथ मैदान में उतरना चाहते हैं।

पिछले दिनों लखनऊ पहुंचे मुकेश साहनी ने ऐलान कर दिया था कि आगामी चुनाव में उनकी वीआईपी पार्टी चुनाव लड़ेगी। चुनाव नजदीक आता देखकर अब उन्होंने अपनी गतिविधियां भी बढ़ा दी हैं। उनका कहना है हम अभी भी यह मानते हैं कि हमारी सोच में फूलन देवी अभी भी जिंदा है। उन्हें हमेशा मैंने अपना आदर्श ही माना है। उत्तर प्रदेश में होने वाले चुनाव से पहले मुकेश सहनी ने आरक्षण की चिंगारी को हवा देना शुरू कर दिया है।

मुकेश सहनी का कहना है कि संविधान में जो आरक्षण के प्रावधान निषादों के लिए है उसे लागू करना चाहिए। निषाद समाज को देश के कई प्रदेशों में आरक्षण दिया गया है, जिसमे दिल्ली, पश्चिम बंगाल जैसे राज्य हैं। ​फ़िलहाल अब तक कोई भी दल उनकी तरफ देख नहीं रहा है, जिसकी वजह से उन्हें चुनाव से पहले यूपी की सियासत में ज्यादा से ज्यादा समय और जीतने के लिए ज्यादा जोर लगाना पड़ेगा।

इसे भी पढ़ें : Delhi Rain : टूट सकता है 11 साल पुराना रिकॉर्ड, हालात को देखते हुए मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

- Advertisement -
spot_img
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -