तो इस बड़ी वजह से अगवा की गई थी बस, मास्टर माइंड प्रदीप पुलिस मुठभेड़ में घायल

1252
agra-bus-highgek-

आगरा। बुधवार तड़के अगवा की गयी बस को पुलिस ने देर शाम इटावा के बलराय थाना क्षेत्र में स्थित एक ढाबे के पीछे से बरामद कर लिया। इस दौरान बस को हाइजैक करने वाले मास्टर माइंड प्रदीप गुप्ता की पुलिस से मुठभेड़ भी हुई, जिसमें उसे गोली लगी और वह अस्पताल में भर्ती है। बता दें कि बुधवार को आगरा से यात्रियों से भरी बस (UP75 M 3516) को हाइजैक कर लिया गया था। बस में कुल 34 यात्री सवार थे। घटना की खबर मिलते ही पुलिस महकमे में हडकंप मच गया। पुलिस के तमाम आलाधिकारी मौके पर पहुंच गया और बस की तफ्तीश में जुट गये।

इसे भी पढ़ें:-बड़ी खबर : बदमाशों के हौसले बुलंद, बस हाइजैक कर पुलिस को दी चुनौती, अभी भी नहीं लगा कोई सुराग

पुलिस की शुरूआती जांच में पता चला कि बस को श्रीराम फाइनेंस कंपनी के कर्मचारी इसलिए लेकर चले गये क्योंकि बस के मालिक ने उसकी क़िस्त नहीं जमा की थी, लेकिन बाद में जब इस घटना के मास्टर माइंड प्रदीप गुप्ता की थाना फतेहाबाद इलाके में पुलिस की चेकिंग के दौरान बताया तो पूरी घटना की हकीकत खुलकर सामने आ गई। बताया जाता है कि चेकिंग के दौरान जब पुलिस ने प्रदीप की बाइक रोकनी चाही तो वह भाग खड़ा हुआ और पुलिस पार गोली चला दी, जिस पर पुलिस ने जवाबी फायरिंग की। इस मुठभेड़ में प्रदीप घायल हो गया। प्रदीप के पकड़े जाने और बस मालिक के प्रदीप को पहचानने के बाद कहानी में एक न्य एंगल सामने आया।

पैसे का था विवाद 

बस मालिक अशोक अरोड़ा और प्रदीप के बीच पैसों के लेन देन को लेकर कोई विवाद था जिससे उसने बस अगवा की। हालंकि बदमाशों ने ही फाइनेंस कंपनी की कहानी गाढ़ी और पुलिस तक पहुंचाई। एसएसपी आगरा ने भी बगैर पूरी पड़ताल किये बदमाशों की कहानी पर भरोसा कर लिया और अपनी मुहर लगा दी। बता दें कि बस मालिक अशोक अरोड़ा की कल रात ही मौत हो गई। उनके बेटे पवन ने जब आरोपी प्रदीप गुप्ता को पहचाना तब जाकर पूरी कहानी सामने आई।

इसे भी पढ़ें:-मेट्रो के पॉवर हाउस में लगी भीषण आग, बुझाने में लगी दमकल की चार गाड़ियां