Saturday, October 16, 2021

लखीमपुर खीरी हिंसा : तीन दिन बाद भी आरोपियों की गिरफ्तारी न होने पर राकेश टिकैत ने दिया बड़ा बयान

- Advertisement -
- Advertisement -

लखनऊ। लखीमपुर खीरी हिंसा को तीन दिन बात जाने के बाद भी अब तक मामले को लेकर किसी भी आरोपी गिरफ्तारी नहीं हुई है। इसे लेकर विपक्ष लगातार सरकार की मंशा पर ही सवाल खड़े कर रहा है। किसानों और प्रशासन के बीच भले ही सभी मुद्दों को लेकर समझौता हो चुका है लेकिन विपक्ष के निशाने पर सरकार है। किसान नेता राकेश टिकैत ने किसानों और सरकार के बीच हुए समझौते की अगुवाई की थी, जिसमे यह भी कहा गया था कि हिंसा में शामिल लोगों की 8 दिनों में गिरफ्तारी भी होगी। हिंसा की घटना को 3 दिन बीत जाने के बाद किसी भी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

इसे भी पढ़ें : अखिलेश यादव के शाहजहांपुर दौरे से बढ़ी प्रशासन की चिंता, अलर्ट पर खुफिया एजेंसियां

हिंसा के बाद केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा के सहित 14 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है। इन सभी के खिलाफ लखीमपुर के तिकुनिया थाने में बहराइच नानपारा के जगजीत सिंह की तहरीर पर बलवा, हत्या, और आपराधिक साजिश सहित अन्य गंभीर धाराओं में एफआईआर दर्ज किया गया है। समझौते के समय राकेश टिकैत ने आशीष मिश्रा की गिरफ्तारी और अजय मिश्रा की मंत्री पद से बर्खास्तगी की मांग की थी।

वहीं इस समझौते के तहत मामले की जांच हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज द्वारा कराई जाएगी। इसके आलावा योगी सरकार द्वारा मृतक किसानों के परिजनों को 45-45 लाख रुपए, घायलों को 10-10 लाख रुपए मुआवजा मिलेगा। वहीं मृतक के परिवार में से एक सदस्य को सरकारी नौकरी मिलेगी। अजय मिश्रा की गिरफ्तारी को लेकर राकेश टिकट ने मंगलवार को कहा है कि सरकार एक सप्ताह का समय दिया गया है। हम सभी मारे गए किसानों की क्रिया में एकत्रित होंगे। इस दौरान ही आगे की रणनीति पर चर्चा होगी।

इस बीच कांग्रेस नेता राहुल गांधी दिल्ली से लखनऊ के निकल चुके हैं। उनकी जिद्द है कि वो लखीमपुर खीरी जाएंगे, जबकि प्रशासन की ओर से उन्हें अनुमति नहीं मिली है। लखनऊ पुलिस भी राहुल गांधी को एयरपोर्ट से बाहर निकलने नहीं देगी।

इसे भी पढ़ें : राहुल-प्रियंका के विरोध में सिख समुदाय ने लगाए पोस्टर, लिखा – सिखों के कातिल…

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -