कुलपति की अजान को लेकर चिट्ठी पर मचा घमासान, सपा, भाजपा के साथ मुस्लिम धर्म गुरु भी आये आमने-सामने

478
AJAN

लखनऊ। यूपी के इलाहबाद विश्व विद्यालय की कुलपति द्वारा अजान को लेकर प्रशासन को लिखी गयी चिट्ठी पर अब घमासान गया है।राजनीतिक पार्टियों ने एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाना शुरू कर दिया है। इस मामले में सपा और भाजपा के आमने सामने आने के बाद मुस्लिम धर्म गुरु भी अपनी प्रतिक्रियाएं देने लगे हैं। सपा का कहना है कि जब से देश में भाजपा की सरकार बनी है तब से जाति धर्म की बातें ज्यादा होने लगी हैं।गौरतलब है कि इलाहबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी की कुलपति प्रोफसर संगीता ने जिलाधिकारी को चिट्ठी लिखकर कहा है कि अजान के दौरान बजने वाले लाउडस्पीकर से उनकी नींद में ‘खलल’ पड़ता है। ऐसे में इस मामले में कुछ कार्रवाई की जाये। कुलपति ने डीएम को लिखी चिट्ठी में कहा है कि हर रोज साढ़े पांच बजे होने वाली अजान के दौरान इस्तेमाल किये जा रहे लाउडस्पीकर से उनकी नींद बाधित होती हैं, जिससे दिन भर सिरदर्द और थकावट बनी रहती है। इस मामले में कुछ एक्शन लिया जाये। कुलपति की इस चिट्ठी ने अब राजनीतिक और धार्मिक विवाद शुरू कर दिया है। इस मसले पर समाजवादी पार्टी का कहना है भाजपा सिर्फ धर्म और जाति की राजनीति कर रही है।

भाजपा बोली निजता हनन है लाउडस्पीकर

पार्टी के अनुराग भदौरिया ने इस मामले पर बयान देते हुए कहा जब से देश और प्रदेश ने भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनी है। तब से सिर्फ जाति-धर्म की राजनीति हो रही है। रोज़गार, शिक्षा संस्थान और विकास जैसे मुद्दों पर बिलकुल भी ध्यान नहीं दिया जा रहा है, सपा नेता के इस बयान का जवाब देते हुए भाजपा प्रवक्ता नवीन श्रीवास्तव का कहना है कि नमाज़ करना अधिकार है, लेकिन इस मामले में कोर्ट पहले ही कह चुका है कि लाउडस्पीकर का इस्तेमाल निजता का हनन है।

वापस लेनी चाहिए शिकायत

वहीं अब इस मसले पर मुस्लिम धर्मगुरु मौलाना सैफ अब्बास ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि अज़ान तो सिर्फ 2-3 मिनट के लिए ही की जाती है। शिकायत करने वालों को सुबह होनी वाली आरती पर भी गौर करना चाहिए। इससे भी तो उनकी नींद खराब होती है। धर्मगुरु ने कहा कि सिर्फ अजान के लिए इस तरह की शिकायत करना पूरी तरह से गलत है। उन्होंने कहा शिकायत करने वाले को अपनी शिकायत वापस ले लेनी चाहिए। मुस्लिम धर्मगुरु मौलाना सूफियान निजामी ने कहा कि हमारे देश में हर धर्म जाति के लोग रहते हैं। कही अजान होती है तो कहीं भजन कीर्तन। ऐसे में यह कहना कि सिर्फ अजान से नींद में खलल पड़ता हैं , तो यह ठीक नहीं है।

इसे भी पढ़ें:-अजान विवाद पर ट्रोल हो रहे जावेद ने तोड़ी चुप्पी और कह गए यह बड़ी बात