पैसा नहीं मिला तो ऑपरेशन टेबल से बिना टांका लगाए बच्ची को किया बाहर, मौत

698
prayagraj

प्रयागराज। यूपी के प्रयागराज में एक बेहद दर्दनाक मामला सामने आया। यहां एक अस्पताल में डॉक्टरों ने एक मासूम को ऑपरेशन करने के बाद बिना टांका लगाए परिजन को सिर्फ इसलिए वापस कर दिया क्योंकि उसके पिता अस्पताल की पूरी फीस नहीं भर पाए। पैसे के अभाव में बच्ची का इलाज नहीं हो सका और उसने दम तोड़ दिया।

इसे भी पढ़ें:-सड़क किनारे पेड़ से टकराई तेज रफ्तार बोलेरो, सिपाही सहित 5 की दर्दनाक मौत

जानकरी के मुताबिक प्रयागराज के करेली इलाके में रहने वाले ब्रह्मदीन मिश्र की तीन वर्षीय पुत्री ख़ुशी को पेट की दिक़्क़त थी। बच्ची का इलाज कराने के लिए परिजन उसे प्रयागराज के धूमनगंज के रावतपुर अस्पताल ले गए। जहां बच्ची की हालत को देखते हुए डॉक्टरों ने उसे एडमिट कर लिया है और ऑपरेशन की बात बताई।

DM ने दिया जांच का आदेश

इस ऑपरेशन के लिए डॉक्टरों ने डेढ़ लाख रुपये का खर्चा बताया लेकिन ऑपरेशन शुरू करने के बाद अचानक से पांच लाख की डिमांड कर दी। बच्ची के पिता ने बताया कि इतनी बड़ी रकम वह अस्पताल में जमा नहीं कर पाए, जिस पर डॉक्टरों ने बिना टांका लगाए बच्ची को ऑपरेशन टेबल से सीधे उन्हें सौंप दिया और अस्पताल से बाहर कर दिया। डॉक्टरों ने कहा कि पैसा न जमा होने से अब बच्ची का इलाज यहां नहीं हो पायेगा।

पिता ने सोशल मीडिया पर लगाई थी गुहार

बच्ची का पिता बच्ची की सीजर का खुला हुआ पेट लिए इस अस्पताल से उस अस्पताल भटकता रहा और इलाज की गुहार लगाता रहा लेकिन किसी भी अस्पताल प्रशासन का दिल नहीं पसीजा। सबने बच्ची का इलाज करने से मना कर दिया। अन्य अस्पताल प्रशासन का कहना था कि बच्ची की हालत बहुत क्रिटिकल है, वह बच नहीं पायेगी। मृतक बच्ची के पिता का आरोप है कि डॉक्टर्स ने बच्ची के ऑपरेशन के बाद सिलाई, टांका नहीं किया और परिवार को सौंप दिया यही कारण है दूसरे अस्पतालों ने बच्ची को लेने से मना कर दिया। थकहार कर पिता ने सोशल मीडिया पर मदद की गुहार लगाई।

डीएम ने दिए जांच के आदेश

सोशल मीडिया पर वीडियो में पिता अपने बच्चे की सीजर का खुला हुआ पेट भी दिखा रहा है। वीडियो के पोस्ट होने के बाद सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। इसके बाद लोगों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अस्पताल प्रशासन के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है। घटना की गंभीरता को देखते प्रयागराज के जिलाधिकारी भानु चंद्र गोस्वामी ने मामले की जाँच के आदेश दे दिए हैं। इसकी जाँच की जिम्मेदारी एडीएम सिटी और प्रयागराज सीएमओ की संयुक्त टीम करेगी।

इसे भी पढ़ें:-बागपत : पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष के साथ घटी इस दर्दनाक घटना ने लोगों को रुलाया