Wednesday, December 7, 2022

PM मोदी ने काशी विश्वनाथ धाम से पंजाब को दिया संदेश, कहा – सिख धर्म गुरुओं से है काशी का रिश्ता

सिख धर्मगुरुओं और काशी विश्वनाथ धाम को जोड़ते हुए कहा कि राजा रणधीर सिंह ने बाबा विश्‍वनाथ मंदिर की आभा बढ़ाने के लिए यहां 23 मन सोना चढ़ाया था। जो मंदिर के शिखर में जड़ा गया था। काशी आकर गुरुनानक देव ने भी सत्‍संग किया था। काशी से सिख धर्म के अन्‍य गुरुओं का भी रिश्‍ता रहा है।

- Advertisement -
- Advertisement -

वाराणसी। पीएम नरेंद्र मोदी ने सोमवार को काशी-विश्‍वनाथ कॉरिडोर का उद्घाटन किया। इस दौरान जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कोई भी राजनीतिक बयानबाजी नहीं की। पीएम का पूरा भाषण वाराणसी के गौरवशाली अतीत, काशी विश्‍वनाथ मंदिर के पुर्ननिर्माण और कॉरिडोर के काम पर केंद्रित रहा। प्रधानमंत्री ने इशारों-इशारों में जरूर उत्तर प्रदेश के साथ पंजाब की जनता को भी संदेश दिया और काशी-विश्‍वनाथ धाम के काम से पंजाब को भी जोड़ते हुए राजा रणजीत सिंह का जिक्र किया।

इसे भी पढ़ें : CBSE के 10वीं के अंग्रेजी प्रश्न पत्र को लेकर हंगामा, बोर्ड ने मानी गलती, छात्रों को मिलेंगे इतने नंबर

ज्ञात हो कि, पंजाब के साथ-साथ पश्चिमी उत्तर प्रदेश में भी बड़ी संख्‍या में सिख आबादी रहती है। जो खेती-किसानी से जुड़े हैं। कृषि कानूनों के खिलाफ किसान केंद्र सरकार से काफी नाराज थे लेकिन सरकार ने सभी कृषि कानूनों को वापस लेकर किसानों की नाराजगी दूर करने की कोशिश की है। पीएम मोदी ने सिख धर्मगुरुओं और काशी विश्वनाथ धाम को जोड़ते हुए कहा कि राजा रणधीर सिंह ने बाबा विश्‍वनाथ मंदिर की आभा बढ़ाने के लिए यहां 23 मन सोना चढ़ाया था। जो मंदिर के शिखर में जड़ा गया था। काशी आकर गुरुनानक देव ने भी सत्‍संग किया था। काशी से सिख धर्म के अन्‍य गुरुओं का भी रिश्‍ता रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि, काशी-विश्‍वनाथ मंदिर के पुनर्निर्माण के लिए पंजाब के लोगों ने दिल खुलकर दान दिया था। रानी लक्ष्‍मीबाई से लेकर चंद्रशेखर आजाद तक कितने ही महापुरुषों की कर्मभूमि काशी रही है, काशी अनंत है। काशी का योगदान अनंत है। यह अनंत परम्‍पराओं की विरासत है। हर भाषा-वर्ग के लोग यहां आकर एक जुड़ाव महसूस करते हैं।

काशी आध्‍यात्‍मिक, सांस्‍कृतिक राजधानी के साथ भारत की आत्‍मा का जीवंत अवतार भी है। उन्होंने कहा कि, विश्वनाथ धाम का ये पूरा नया परिसर एक भव्य भवन भर नहीं है, ये प्रतीक है। पहले यहां जो मंदिर क्षेत्र सिर्फ तीन हजार वर्ग फीट में था। वहीं अब करीब पांच लाख वर्ग फीट का हो गया है। अब मंदिर और मंदिर परिसर में 50 से 75 हजार श्रद्धालु आ सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : बार के सीक्रेट रूम से मिलीं 17 लड़कियां, पुलिस के उड़े होश, 20 के खिलाफ मामला दर्ज

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -

https://www.aprendainglesozinho.com.br/profile/situs-judi-slot-terbaik-dan-terpercaya-no-1/profile

https://www.kubedliving.com/profile/situs-judi-slot-terbaik-dan-terpercaya-no-1/profile

https://www.foresixty.com/profile/situs-judi-slot-terbaik-dan-terpercaya-no-1-2022/profile

https://www.sciencefilm.ch/profile/situs-judi-slot-terbaik-dan-terpercaya-no-1/profile

https://www.truelovesband.com/profile/situs-judi-slot-terbaik-dan-terpercaya-no-1/profile

https://www.aprendainglesozinho.com.br/profile/judi-slot-online-jackpot-terbesar/profile

https://www.kubedliving.com/profile/daftar-judi-slot-online-jackpot-terbesar/profile

https://www.foresixty.com/profile/daftar-judi-slot-online-jackpot-terbesar/profile

https://www.sciencefilm.ch/profile/judi-slot-online-jackpot-terbesar/profile

https://www.truelovesband.com/profile/judi-slot-online-jackpot-terbesar/profile

https://www.kubedliving.com/profile/slot-gacor-gampang-menang/profile

https://www.foresixty.com/profile/situs-slot-gacor-gampang-menang/profile

https://www.sciencefilm.ch/profile/slot-gacor-gampang-menang/profile

https://www.truelovesband.com/profile/situs-slot-gacor-gampang-menang/profile

https://www.aprendainglesozinho.com.br/profile/slot-gacor-gampang-menang/profile

https://www.kubedliving.com/profile/info-slot-gacor-hari-ini/profile

https://www.foresixty.com/profile/info-slot-gacor-hari-ini/profile

https://www.sciencefilm.ch/profile/info-slot-gacor-hari-ini/profile

https://www.truelovesband.com/profile/info-slot-gacor-hari-ini/profile

https://www.aprendainglesozinho.com.br/profile/info-slot-gacor-hari-ini/profile