Friday, October 22, 2021

मनीष गुप्ता हत्याकांड: सभी 6 पुलिसकर्मी आरोपी होंगे Suspended, शुरू हुई कार्यवाई

- Advertisement -
- Advertisement -

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर (Gorakhpur) में कानपुर के कारोबारी मनीष गुप्ता हत्याकांड (Manish Gupta Murder Case) के सभी आरोपित के खिलाफ पकड़ने की कार्रवाई शुरू हो चुकी है। इस मामले में दो हत्या आरोपियों को पुलिस ने अरेस्ट करके सलाखों के पीछे भेज दिया है। वहीं मामले में अहम आरोपी इंस्पेक्टर जगत नारायण सिंह और दरोगा अक्षय मिश्रा को गिरफ्तार कर जेल भेजने के बाद सभी को सस्पेंड करने की तैयारी शुरू कर दी गई है। एसपी नॉर्थ की जांच रिपोर्ट का आधार बनाते हुए एसएसपी ने बर्खास्त करने की फाइल आगे बढ़ा दी है।

अन्य छह पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया जाएगा

हत्या का मुकदमा दर्ज होने से पहले एसएसपी ने चेकिंग के दौरान लापरवाही के आरोप में इंस्पेक्टर के साथ अन्य छह पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया था। एफआईआर होने के बाद मनीष की पत्नी मीनाक्षी की मांग प्रशासन ने मामले की गंभीरता को समझते हुए और जांच एसआईटी को सौंप दी। एसआईटी पिछले 10 दिनों से गोरखपुर में डेरा डाले हुए है और हर कड़ी की बड़ी गंभीरता से जांच कर रही है।

एसआईटी के डीआईजी आनंद प्रकाश तिवारी की 5 मेंम्बर टीम 2 अक्टूबर से गोरखपुर में कैंप कर रही है और हॉस्पिटल से लेकर होटल के रूम से पुलिस थाने तक हर पहलू की बड़ी बखूबी से जांच कर रही है। मामला सीबीआई जांच को भी सिफारिश की गई है लेकिन इस मामले पर छानबीन करने को लेकर सीबीआई ने अभी तक हामी नहीं भरी है।

2 अक्टूबर को अपर पुलिस आयुक्त आनंद प्रकाश तिवारी की अगुवाई में एसआईटी गोरखपुर पहुंची थी। जांच में हत्या कर साक्ष्य मिटाने के प्रमाण मिलने पर आरोपितों को फरार घोषित कर दिया गया था। साथ ही साथ उन्हें अरेस्ट करने की कोशिश तेज कर दी गई है। यहां तक कि कई जगह दबिश भी दी गई। रविवार को जेएन सिंह और अक्षय मिश्रा गिरफ्तार कर लिए गए थे, वहीं चार आरोपी अभी भी फरार हैं।

इसे भी पढ़ें-क्या हमेशा के लिए शहनाज छोड़ने वाली है मुंबई! सिडनाज फैंस को लगेगा बड़ा धक्का

 

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -