जमीनी मामलों की धोखाधड़ी पर योगी सरकार ने लगाया ब्रेक, राजस्व विभाग ने कसी कमर

88
Yogi Adityanath

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने जमीन के मामले में चल रही धोखाधड़ी को लेकर एक फैसला लिया हैं, जिससे जनता को बड़ी ही राहत मिलने वाली हैं। इस फैसले से सरकार भू-माफिया पर भी शिकंजा कसेगी। सरकार(Government) ने धोखाधड़ी रोकने के लिए हर जमीन का 16 अंक का एक यूनीक आइडी नंबर(Unique id number) जारी करने का फैसला लिया हैं। इस फैसले के आते ही राजस्व सरकार ने भी अपनी कमर कस ली हैं।

इसे भी पढ़े-ब्लैक ड्रेस में यूपी बिहार लूटने चलीं शिल्पा शेट्टी, एक बार फिर दिल थामने को मजबूर हुए लोग

जारी किया यूनिक नंबर

सीएम योगी आदित्यनाथ ने बढ़ रहे जमीन से सबंधित मामलों पर रोक लगाते हुए हर एक जमीन का 16 अंको का यूनिक आईडी नंबर जारी करने का निर्देश दिया साथ ही इस प्रक्रिया को तेजी से करने का भी आदेश दिया है। राजस्व विभाग कृषि, आवासीय व व्यवसायिक भूमि को चिह्नित कर यूनिक नबंर जारी कर रहा है। जिससे हर एक व्यक्ति को घर बैंठे एक यह सुविधा मिलगी जिससे वो अपने जमीन के यूनिकोड नंबर से घर बैठे एक क्लिक करके जमीन का पूरा ब्योरा जान सकता हैं। सभी राजस्व गांवों में भूखंडों के लिए यूनिकोड का मूल्यांकन शुरू भी हो गया है, लेकिन कम्प्यूटर द्वारा की जा रही इस प्रबंधन प्रणाली में विवादित जमीनों को चिन्हित करने का काम राजस्व न्यायालय कर रहे हैं।

जमीन के दोनों मालिको का होगा नाम

सीएम के इस फैसले से मिल रहे जमीनों की यूनिकोड की मदद से विवादित जमीनों के फर्जी बैनामों पर रोक लगाई जा सकेगी। प्रदेश भर में इस योजना को लागू किया जा रहा हैं। बहुत से जिलों में इस योजना पर काम शुरू भी हो गया है। इस योजना के तहत जमीन के नए और पुराने दोनों मालिकों के नाम दर्ज किया जायेगा।

जमीन का कोड सोलह अंकों का होगा। कोड के पहले छह अंक गांव की जनगणना के आधार पर होगा। सात से दस तक भूखंड की गाटा संख्या और 11 से 14 अंक जमीन के विभाजन का नंबर होगा। 15 से 16 नंबर भूमि की श्रेणी होगी। जिससे कृषि, आवासीय और व्यवसायिक भूमि को पहचाना जा सकेगा।

बचेंगें धोखाधड़ी के जाल से

सरकार द्वारा चालू की गई इस योजना को गेम चेंजर माना जा रहा हैं। इस फैसले से जमीन के मामले में हो रही धोखाधड़ी के मामले कम सामने आएंगे कोई भी इंसान दूसरे की जमीन पर अवैध कब्जा नही कर सकेगा। राज्य के हर हिस्से में यह योजना जारी होने से हर राज्य की अपनी अलग पहचान होगी। जो भूमि विवाद के मामले की जांच कर लोगों को धोखेबाजों के जाल में फसने से बचाएगा।

इसे भी पढ़े-सुनहरा मौका: सोने में आई अब तक की सबसे बड़ी गिरावट, जानिए आज के दाम