लखनऊ पहुंचे मनीष सिसौदिया ने सिद्धार्थनाथ सिंह को दी बहस की चुनौती, खाली पड़ी रही कुर्सी

150

लखनऊ। आगामी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में उतरने के एलान के बाद आम आदमी पार्टी और भाजपा नेताओं के बीच सियासी जंग तेज हो गई है। हालांकि आप सांसद संजय सिंह यूपी की राजनीति में पहले से ही सक्रिय हैं। जबकि केजरीवाल के यूपी विधानसभा चुनाव आम आदमी के उतरने के एलान के बाद यूपी सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थनाथ सिंह ने प्रदेश सरकार की उपलब्धियों को गिनाते हुए दिल्ली सरकार को कई मोर्चों पर फेल बताया था। वहीं दिल्ली सरकार के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया आज लखनऊ पहुंचकर शिक्षा और स्वास्थ्य के मुद्दे पर सिद्धार्थनाथ सिंह को खुली बहस की चुनौती थी। इस दौरान मंच पर उन्होंने सिद्धार्थनाथ सिंह के नाम का लिखा एक कुर्सी भी रखवाई थी।

इसे भी पढ़ें: इस मसले को लेकर मोदी सरकार पर बरसे ओवैसी, उठाए बेहद संजीदा सवाल, जानें पूरा माजरा

इससे पहले मनीष सिसोदिया के लखनऊ एयरपोर्ट पहुंचने पर आप कार्यकर्ताओं ने जबरदस्त तरीके से उनका स्वागत किया। इसके बाद एक प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए मनीष सिसौदिया ने कहा कि मुझे अच्छा लग रहा है कि यूपी की राजनीति में पहली बार को शिक्षा, स्वास्थ्य, बिजली, पानी जैसे मुद्दों पर चर्चा हो रही है। इन मुद्दों पर बहस की बात की जा रही है। साथ ही उन्होंने यूपी सरकार को कठघरे में खड़ा करते हुए कहा कि बीते चार वर्षों से यहां भाजपा की सरकार है, बावजूद इसके यहां की जनता पूछ रही है कि हमें क्या मिला। पांच वर्षों में दिल्ली के सरकारी स्कूल काफी बदल गए। यहां आज भी वहीं हालात बने हुए हैं।

दिल्‍ली के सरकारी स्‍कूलों में बच्‍चों के नतीजे अब 98 प्रतिशत आने लगे। जबकि यूपी के सरकारी स्‍कूलों के बच्‍चों के नतीजे 70 से 75 प्रतिशत पर ही टिके हुए हैं। उन्होंने कहा, दिल्‍ली में हमने प्राइवेट स्‍कूलों की फीस नहीं बढ़ने दी। यूपी में कई गुना फीस बढ़ोत्तरी हो गई। 70 से 80 प्रतिशत दिल्ली वालों को फ्री बिजली मिल रही है। वहीं उत्तर प्रदेश में लगातार बिजली की दरें बढ़ रही हैं। दिल्‍ली वालों को चौबीसों घंटे बिजली-पानी मिल रहा है। यूपी वालों को मितना मिल रहा है। उन्‍होंने आरोप लगाते हुए कहा कि यूपी में बीते चार वर्षों में हालत बद से बदतर हो गई है।

इसे भी पढ़ें: पुलिस को देख पिछले दरवाजे से भागे बादशाह, सुरेश रैना सहित 34 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज