गैंगस्टर विकास दुबे के भाई ने किया आत्मसमर्पण, कोर्ट ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा

128

लखनऊ। कानपुर के चर्चित बिकरू गांव कांड के मुख्य आरोपी गैंगस्टर विकास दुबे के भाई दीपक दुबे ने लखनऊ की एक अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया है। उसने गुपचुप तरीके से आत्मसमर्पण किया, जिसकी भनक न तो पुलिस को लगी और न ही मीडिया को। इसके बाद कोर्ट ने उसे 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। बता दें कि राज्य पुलिस ने दीपक दुबे पर 20,000 रुपए का इनाम घोषित किया था।

इसे भी पढ़ें: सिस्टर अभया के कातिल पादरी और नन को मिली उम्रकैद की सजा, लगा 5-5 लाख का जुर्माना

दीपक दुबे ने इतनी गोपनीय तरीके से कोर्ट में आत्मसमर्पण किया कि इसकी जानकारी पुलिस तक को भी नहीं लग सकी। उसके आत्मसमर्पण की खबर बुधवार को सामने आई। ज्ञात हो दीपक बिकरू गांव हत्याकांड के बाद से फरार चल रहा था। हाल ही में लखनऊ पुलिस ने उसकी एक करोड़ रुपए के करीब की संपत्ति कुर्क कर ली थी। वहीं लखनऊ के कृष्णा नगर थाने में दीपक दुबे के खिलाफ जालसाजी और धन उगाही करने का मामला दज्र किया गया था।

गौरतलब है कि 3 जुलाई बिकरू गांव हत्याकांड के बाद से दीपक फरार चल रहा था। पुलिस उसकी तलाश में लगी हुई थी। लेकिन जिस तरह से विकास दुबे की पुलिस कस्टडी में एनकाउंटर हो गया था, उससे दीपक को डर था कि कहीं उसका भी न एनकाउंटर कर दिया जाए। सूत्रों की मानें तो दीपक पुलिस से बचकर सोमवार रात से ही अदालत परिसर में छिपा हुआ था। अदालत में पुलिस की कम संख्या होते ही उसने कोर्ट में आत्मसमर्पण कर दिया। बताते चलें कि बिकरू गांव कांड के बाद पुलिस ने ताबड़तोड़ कई एनकाउंटर किए थे। पुलिसकर्मियों की हत्या के मुख्यआरोपी विकास दुबे के घर को पुलिस ने उसी के बुलडोजर से ढहवा दिया था।

इसे भी पढ़ें: लोगों को रौंदते हुए होटल में जा घुसी अनियंत्रित बस, दो की मौत, कई लोग घायल