Saturday, October 16, 2021

लखीमपुर खीरी हिंसा : सामने आई मौत की वजह, ब्रेन हेमरेज, घिसटने और पिटाई से हुईं 8 की मौत

- Advertisement -
- Advertisement -

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में धरने पर बैठ किसानों में अफरा-तफरी के बीच बीजेपी सांसद के बेटे ने किसानों पर कार चढ़ा दी। यह हिंसा रविवार को हुई। हिंसा में मारे गए लोगों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट (Postmortem Report) आ गई है। रिपोर्ट के आने से वह वजह सामने आई जिससे लोगों की मौत हुई है। बताया जा रहा है कि किसी की मौत शॉक लगने से तो किसी की हेमरेज से हुई है। पोस्टमॉर्टम में ऐसा नहीं आया कि किसी की मौत गोली लगने से हुई हो।

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में सामने आई मौत की वजह?

1. लवप्रीत सिंह (किसान)
– रोड में घिसटने से हुई मौत। शरीर पर मिले चोटों के निशान। शॉक और हेमरेज मौत की वजह.

2. गुरविंदर सिंह (किसान)
– दो चोट और घिसटने के निशान मिले। धारदार या नुकीली चीज के लगने से लगी चोटे। शॉक और हेमरेज मौत की वजह।

3. दलजीत सिंह (किसान)
– शरीर पर कई जगह घिसटने के निशान से हुई मौत।

4. छत्र सिंह (किसान)
– मौत से पहले शॉक, हेमरेज और कोमा। घिसटने के भी मिले शरीर पर निशान।

5. शुभम मिश्रा (बीजेपी नेता)
– लाठी-डंडो से हुई पिटाई। शरीर पर दर्जनभर से ज्यादा जगहों पर चोट के लगे मिले निशान।

6. हरिओम मिश्रा (अजय मिश्रा का ड्राइवर)
– लाठी-डंडों से पिटाई। शरीर पर कई जगह चोट के निशान। मौत से पहले शॉक और हेमरेज।

7. श्याम सुंदर (बीजेपी कार्यकर्ता)
– लाठी-डंडों से पिटाई। घिसटने से दर्जनभर से ज्यादा चोटें आईं।

8. रमन कश्यप (स्थानीय पत्रकार)
– शरीर पर पिटाई के गंभीर निशान। शॉक और हेमरेज से हुई मौत।

मृतकों के परिजनों को 45 लाख का मुआवजा

आपको बता दे कि लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा का सोमवार को प्रशासन और किसानों के बीच समझौता हो गया। तय हुआ कि हिंसा में मारे गए चारों किसानों के परिजनों को 45-45 लाख रुपये का मुआवजा और परिवार के एक सदस्य को नौकरी दी जाएगी। साथ ही हिंसा में घायल हुए लोगों को 10 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाएगा। इसके अलावा इस पूरे मामले की जांच हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज करेंगे।

क्या हुआ था लखीमपुर में?

रविवार को डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के निश्चित किए गए कार्यक्रम के तहत लखीमपुर खीरी के दौरे पर थे। तभी डिप्टी सीएम को लेने गाड़िया जा रही। ये गाड़ियां केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा की बताई गईं। रास्ते में तिकुनिया इलाके में किसानों ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। जिसमें काफी झड़प हो गई। बाद में ऐसा आरोप लगाया गया कि आशीष मिश्रा ने किसानों के ऊपर गाड़ी चढ़ा दी, जिससे 4 लोगों की मौक पर ही मौत हो गई। किसानों की मौत के बाद मामला इतना बढ़ गया कि विऱोध हिंसा में तब्दील हो गया। हिंसा में बीजेपी नेता के ड्राइवर समेत चार लोगों की मौत हो गई। कुल मिलाकर इस हिंसा में अब तक 8 लोगों की मौत हो गई थी।

इसे भी पढ़ें-लखीमपुर खीरी हिंसा : BJP पर मायावती ने साधा निशाना, कहा – दो मंत्रियों की संलिप्तता देख नहीं लगता न्याय होगा

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -