Saturday, October 16, 2021

लखीमपुर खीरी हिंसा : आशीष मिश्रा ने की फायरिंग, किसानों को गाड़ी से कुचला, दर्ज FIR में लिखी हैं ये बातें

- Advertisement -
- Advertisement -

खीमपुर खीरी हिंसा के मामले में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा के खिलाफ एफआईआर दर्ज हो चुकी है। हिंसा को लेकर दर्ज एफआईआर के अनुसार, केंद्रीय मंत्री का बेटा उस कार में मौजूद था, जिससे किसानों को कुचला गया है। इसके आलावा उस पर फायरिंग करने का भी आरोप लगाया गया है। बहराइच जिले के जगजीत सिंह की शिकायत पर दर्ज एफआईआर के अनुसार, लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा पूरी तरह से सुनियोजित थी। इसकी साजिश मंत्री और उनके बेटे ने रची थी। केंद्रीय मंत्री के भड़काऊ बयान दिया और उसके के बाद हिंसा भड़की, जिसमे 8 लोगों की मौत हुई। दर्ज मुदकमे के अनुसार, किसान उस दिन अग्रसेन इंटर कॉलेज के मैदान में इकट्ठे हुए थे। उन्हें बनबीर जा रहे डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के खिलाफ शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन करना था।

इसे भी पढ़ें : राहुल-प्रियंका के विरोध में सिख समुदाय ने लगाए पोस्टर, लिखा – सिखों के कातिल…

दर्ज एफआईआर के मुताबिक, ‘3 बजे के करीब तीन गाड़ियों से आशीष मिश्रा 15 से 20 हथियारबंद लोगों के साथ बनबीरपुर पहुंचे। आशीष महिंद्रा थार में बाईं ओर बैठे था, जिसने गोलियां चलानीं शुरू कर दी और भीड़ को रौंदते हुए आगे बढ़ गया। नानपारा के मत्रोनिया गांव के गुरविंदर सिंह की फायरिंग की वजह से मौत हो गई। किसानों को तेज रफ्तार गाड़ियां दोनों ओर कुचलते हुए चली गई। इसमें से के गाड़ी का नंबर UP 31 AS 1000 और दूसरी का UP 32 KM 0036 था। वहीं तीसरी गाड़ी स्कॉर्पियो थी, जिसका नंबर पता नहीं चल सका है।’

एफआईआर रिपोर्ट मुताबिक, ‘कुछ दूरी पर जाकर आशीष की तेज रफ्तार गाड़ी पलट गई। इसके बाद आशीष कार से बाहर आया और गोलिया चलाता हुआ गन्ने के खेत में छिप गया।’ आशीष मिश्रा के अतिरिक्त 15 से 20 लोगों को हिंसा के मामले में आरोपी बनाया गया है, जिनके खिलाफ धारा 147, 148, 149 (दंगों से संबंधित), 279 (लापरवाही से गाड़ी चलाना), 338 (किसी व्यक्ति को चोट पहुंचाना जिससे उसकी जान को खतरा हो), 304A (लापरवाही से मौत), 302 (मर्डर) और 120B (आपराधिक साजिश रचना) के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। जगजीत सिंह द्वारा दर्ज कराई गई एफआईआर में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा के भड़काऊ बयान का जिक्र किया गया है।

इसे भी पढ़ें : लखीमपुर खीरी हिंसा : तीन दिन बाद भी आरोपियों की गिरफ्तारी न होने पर राकेश टिकैत ने दिया बड़ा बयान

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -