Friday, October 22, 2021

मुस्लिम युवक की पिटाई मामले में अल्पसंख्यक आयोग ने कानपुर पुलिस कमिश्नर से 72 घंटे में मांगा जवाब

- Advertisement -
- Advertisement -

कानपुर। उत्तर प्रदेश के कानपुर में धर्मांतरण के आरोपी की पिटाई मामला तूल पकड़ चुका है। मामले को लेकर कानपुर भी फिर सवालों के घेरे में है। आरोपी की पिटाई पुलिस के सामने होती रही और पुलिस सब कुछ सिर्फ देखती रही लेकिन अब जब पिटाई का वीडियो वायरल हो चुका है और पुलिस खुद मामले में फंसती हुई नजर आ रही है तो आनन-फानन में तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है लेकिन उन्हें भी हिंदूवादी संगठनों के दबाव के बाद छोड़ दिया गया।

इसे भी पढ़ें : CM योगी ने गोरखपुर मंडल के 75 खिलाड़ियों का किया सम्मान, कहा – अच्छे मानदेय पर बहाल होंगे खेल प्रशिक्षक

बजरंग दल के तीन कार्यकर्ताओं को पुलिस ने गुरुवार शाम गिरफ्तार कर लिया था। इसके बाद हिंदू युवा वाहिनी, बजरंग दल और दुर्गा वाहिनी के कार्यकर्ताओं ने डीसीपी दक्षिण के कार्यालय का घेराव किया और वहीं हनुमान चालीसा का पाठ किया। रात में करीब एक बजे तक कार्यकर्ता डीसीपी ऑफिस के बाहर ही बैठे रहे, जिसके बाद तीनों कार्यकर्ताओं को छोड़ने का आश्वासन जब पुलिस अधिकारियों ने दिया तो धरने पर बैठे हिंदूवादी संगठन के कार्यकर्ता डीसीपी से वापस लौटे।

ई रिक्शा चालक की पिटाई का वीडियो वायरल होने के बाद अल्पसंख्यक आयोग ने गंभीरता से लिया है। आयोग ने कानपुर पुलिस के कमिश्नर को नोटिस जारी किया है। अल्पसंख्यक आयोग के सचिव इच्छा राम ने कानपुर के पुलिस कमिश्नर से तीन दिन में नोटिस का जवाब मांगा है। कानपुर के पुलिस कमिश्नर को अल्पसंख्यक आयोग ने निर्देश भी दिए हैं कि इस तरह की कोई घटना दोबारा न हो। इसके लिए भी इंतजाम किये जाएं।

वहीं सभी आरोपियों पर दर्ज मामले के संबंध में भी अल्पसंख्यक आयोग ने जानकारी मांगी है और यह भी पूछा है कि पुलिस ने अब तक हमलावरों के खिलाफ क्या कार्रवाई की गई है। जिन पुलिसकर्मियों की मौजूदगी में पीड़ित की पिटाई हुई, उनके खिलाफ क्या कार्रवाई हुई है। इस संबंध में भी आयोग ने जानकारी मांगी है।

इसे भी पढ़ें : UP के 24 जिले बाढ़ से प्रभावित, CM योगी ने कहा – हरियाणा, मध्य प्रदेश, राजस्थान की वजह से बिगड़े हालात

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -