Saturday, December 4, 2021

श्रीराम के साथ अपने आपको जोड़कर भारत खुद को गौरवान्वित महसूस कर रहा है : CM योगी

- Advertisement -
- Advertisement -

गोरखपुर में मानसरोवर रामलीला मैदान में दशहरे के मौके पर श्रीराम के राज्याभिषेक के दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि धर्म सिर्फ उपासना विधि ही नहीं बल्कि एक प्रेरणा भी है, जिससे हम सभी लोग जुड़े हुए हैं। सीएम ने कहा कि श्रीराम कथा का जब तक घर-घर में पान होगा। तब तक देश का कोई भी बाल बांका नहीं कर सकेगा। अयोध्या में 500 सालों से गुलामी के जिन बादलों ने अपमानित करने का काम किया था वो आज सब छंट गए हैं। अयोध्या में आज युद्ध स्तर भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर का निर्माण पर हो रहा है। राम मंदिर के फैसले बाद वैश्विक मंच पर भारत की सांस्कृतिक विरासत को प्रस्तुत किया जा रहा है।

इसे भी पढ़ें : कानपुर में मौजूद है दशानन का प्राचीन मंदिर, सिर्फ दशहरा पर खुलते हैं कपाट

सीएम योगी ने कहा कि, देश और दुनिया में जो भारतीय हैं आज विजयदशमी के पर्व पर इस आयोजन को हर्षोल्लास के साथ अपने घर मे मनाता है। मैं आप सभी को विजयदशमी की हार्दिक बधाई देता हूं। मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम ने युगों पूर्व अत्याचार के प्रतीक रावण का वध किया था। हम सभी रामलीला आयोजन के माध्यम से इस घटना के साक्षी हम बनते हैं। श्रीराम ने जो युगों पूर्व किया था, उसे हम अपने जीवन का हिस्सा मानकर लगातार उस मार्ग का अनुसरण करने की कोशिश करते हैं। संत तुलसीदास ने रामलीलाओं का आयोजन मध्यकाल में किया था। उन्होंने उस कालखण्ड में राष्ट्रीय चेतना को जागृत करने की कोशिश की थी।

मुख्यमंत्री ने बताया कि गोरक्षपीठ की परंपरा मानसरोवर मन्दिर में भगवान मानसरोवर का अभिषेक करने के बाद यहां आकर श्रीराम का राजतिलक करने की परंपरा से जुड़ी हुई है। इसे सैकड़ों वर्षों से पीठ के महंत करते आये हैं। रामलीला का मंचन इसी तरह से पीढ़ियों से होता आया है। सीएम ने कहा कि कोरोना काल में लाखों लोगों ने अपनों को खोया लेकिन दुनिया ने आयुष पद्धति को अपनाया है। भारत के परम्परा में धर्म के प्रतीक श्रीराम हैं। मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम में धर्म के जो भी गुण दिखाई देते हैं।

इसे भी पढ़ें : लखीमपुर खीरी हिंसा : अंकित दास को लेकर लखनऊ रवाना हुई SIT, इन हथियारों की है तलाश

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -