पति—पत्नी और बेटे को घर में जिंदा जलाया, पुलिस सीसीटीवी कैमरे में तलाश रही कातिल

82

आगरा। उत्तर प्रदेश में अपराध का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। आए दिन परेशान करने वाली घटनाएं सामने आने से लोगों में भय का माहौल बनता जा रहा है। आगरा में एत्मादुद्दौला के फाउंड्री नगर क्षेत्र के नगला किशनलाल में पति—पत्नी और बेटे को जिंदा जला दिया गया है। तीनों के जले हुए शव आज सुबह कमरे से बरामद हुए हैं। इन तीनों को किसने जलाकर मारा और यह घटना कितने बजे की है यह अभी स्पष्ट नहीं हो सका है। पुलिस एरिए में लगे सीसीटीवी कैमरे में कातिल तलाशने में जुट गई है। पुलिस भी अभी इस मामले में कुछ बोलने की स्थिति में नहीं है। पुलिस का मानना है मामले के और कारण भी हो सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: एनकाउंटर और गिरफ्तारी तक सीमित रह गई पुलिस, कैसे खुलेंगे असलहों के राज?

जानकारी के अनुसार नगला किशनलाल के एक घर में 55 वर्षीय रामवीर उसकी पत्नी मीरा और बेटे बबलू (25) की जली हुई लाश बरामद हुई है। दूध वाले की वजह से घटना का पता चल सका। रोजना की तरह वह सुबह छह बजे दूध देने आया था। आवाज देने पर अंदर से न तो कोई आवाज आई और न किसी ने दरवाजा खोला। वैसे बबलू भी रोजना सुबह साढ़े पांच बजे अपनी दुकान खोल लेता था। लेकिन आज दुकान भी नहीं खुली थी। यह सब देखते हुए दूध वाले ने मोहल्ले में रहने वाले रामवीर के भाई के घर पर आवाज लगाई। उसने बताया कि आवाज लगाने पर भी बबलू के घर से कोई बाहर नहीं आ रहा है। इस पर बबलू की चाची सुमन घर पर देखने आई। अंदर का नजारा देखकर वह चकरा गईं। दो कमरों में परिवार के लोगों की जली हुई लाशें पड़ी थीं।

एक कमरे में मीरा और उसके बेटे की और दूसरे कमरे में रामवीर की जली लाश पड़ी थी। घटना की सूचना पर पहुंची पुलिस की भी यह सब देखकर होश गए। एसपी सिटी बोत्रे रोहन प्रमोद भी मौके पर पहुंच चुके। पुलिस ने मामले की छानबीन शुरू कर दी है। वहीं रामवीर के रिश्तेदार भी किसी से कोई रंजिश होने की बात से इनकार कर रहे हैं। यह भी तर्क दिया जा रहा है कि रात को घर में अगर आग लगी होती तो पड़ोसियों को इसका पता जरूर चलता। किसी ने कोई चीख तक नहीं सुनाई दी।

इसे भी पढ़ें: सुशांत सिंह की बहनों पर ड्रग पार्टी में शामिल होने का लगा आरोप, अस्पताल में एडमिट होने की बात भी खुली