गोरखपुर में एक करोड़ की फिरौती के लिए अपहृत छात्र की हत्या, क्षेत्र में दहशत

299

गोरखपुर। उत्तर प्रदेश में अपराध का सिलसिला थमता नजर नहीं आ रहा है। इन दिनों फिरौती करने वालों की बाढ़ सी आ गई है। कानपुर के बाद अब गोरखपुर में फिरौती के लिए अगवा किए गए छात्र का शव बरामद हुआ है। जानकारी के मुताबिक पिपराइच इलाके में तिनकोनिया नंबर दो में केवटहिया नाले के पास से छात्र का शव बरामद हुआ है। पुलिस ने इस मामले में चार लोगों को हिरासत में लिया था। इन्हीं लोगों की निशानदेही पर छात्र का शव बरामद किया गया है। बता दें कि रविवार को पिपराइच क्षेत्र के जंगल छत्रधारी, टोला मिश्रौलिया से पांचवीं के छात्र बलराम गुप्त को अगवा कर एक करोड़ रुपए की फिरौती मांगी गई थी।

इसे भी पढ़ें: गृह मंत्रालय ने गठित की टीम, देश में आतंक फैलाने वालों पर रहेगी ‘स्पेशल 44’ की निगाह

रविवार की शाम को परिजनों के सूचना पर बच्चे की तलाश में पिपराइच पुलिस और क्राइम ब्रांच के साथ ही एसटीएफ भी लगी हुई थी। पुलिस इस सिलसिले में जंगल धूसड़ से मुर्गा कारोबारी, मोबाइल सिम बेचने वाले दुकानदार और एक प्रापर्टी डीलर को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही थी। साथ ही बलराम के साथ अक्सर खेलने वाले उसके दोस्तों से भी मामले में जानकारी ली गई थी। जानकारी के अनुसार जंगल छत्रधारी गांव के मिश्रौलिया टोला निवासी महाजन गुप्त अपने घर में ही किराना दुकान चलाते हैं। दुकान के साथ—साथ वह जमीन के कारोबार से भी जुड़े हैं।

उनका बेटा बलराम रविवार को दोपहर में आसपास खाना खाने के बाद दोस्तों के साथ खेलने निकल गया था। उसके बाद से वह घर नहीं लौटा। शाम को तीन बजे के करीब महाजन गुप्त के मोबाइल पर अनजान नंबर से फोन आया। फोन करने वाले ने महाजन गुप्त को बताया कि उनके बेटे बलराम का अपहरण कर लिया गया है। उसे छुड़ाने के लिए एक करोड़ रुपए की व्यवस्था करने की बात कह फोन काट दिया। महाजन ने पलट कर जब उस नंबर पर फोन लगाया तो मोबाइल स्विच आफ बताने लगा। लेकिन कुछ देर बाद 10-10 मिनट के बीच में उसी नंबर से दो बार फोन आया।

महाजन को अपने बेटे के अगवा होने की बात पर यकीन नहीं हो रहा था, इसलिए उन्होंने पहले गांव में उसकी काफी तलाश की। कहीं से कुछ पता न चलने पर उसने लोगों को बेटे के अपहरण और फिरौती के लिए आए फोन के बारे में बताया। शाम पांच बजे डायल 112 पर फोन कर उसने पुलिस को सूचना दी। इसके बाद क्षेत्राधिकारी चौरीचौरा रचना मिश्रा के साथ—साथ पिपराइच और गुलरिहा थाने की पुलिस तथा क्राइम ब्रांच व एसटीएफ गोरखपुर की मौके पर पहुंच गई।

इसे भी पढ़ें: घर के हर कोने में दफन है शव, अधिकारों से अब तक वंचित है फकीरों का यह समुदाय