श्मशान घाट हादसे में अब तक गईं 25 जानें, JE सहित तीन लोग गिरफ्तार, ठेकेदार फरार

165

गाजियाबाद के मुरादनगर में श्मशान घाट में बने गलियारे की छत गिरने से उसके मलबे में दबने की वजह से 25 लोगों की मौत हो गई है। वहीं 15 लोग अभी भी घायल हैं। इस बड़े हादसे के बाद एक्शन में आई योगी सरकार ने जिला प्रशासन को तुरंत दोषियों के खिलाफ एक्शन लेने के निर्देश दिए, जिसके बाद अब तक इस मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। इस मामले में ईओ निहारिका सिंह, जेई सीपी सिंह, सुपरवाइजर आशीष पुलिस की कस्टडी में है। वहीं ठेकेदार अजय त्यागी और अन्य अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। ठेकेदार फरार बताया जा रहा है। एसपी ग्रामीण डॉ. ईरज राजा का कहना है कि, सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। इसके बाद आगे की क़ानूनी कार्रवाई होगी।

इसे भी पढ़ें: घाटी में जबरदस्त बर्फबारी से कटा देश से संपर्क, ठंड तोड़ रहा रिकॉर्ड

प्रशासन ने आरोपियों के खिलाफ इन धाराओं में मामला दर्ज कराया है-
IPC धारा 304 – गैर इरादतन हत्या
IPC धारा 337 –  किसी व्यक्ति को खतरा पहुंचाने वाला कार्य करना
IPC धारा 338 – किसी की व्यक्तिगत सुरक्षा को खतरा पैदा करने वाली चोट पहुंचाने वाला कार्य करना।
IPC धारा 409 – धन का गबन व सरकारी कर्मचारी द्वारा विश्वास का आपराधिक हनन
IPC धारा 427 – बुरी मंशा, जिससे आर्थिक नुकसान हो।

श्मशान घाट में लोगों के ऊपर मौत बन गिरा गलियारा लगभग 15 दिन पहले ही जनता के लिए खोला गया था। ये गलियारा 55 लाख की लागत से बना था। सीएम योगी आदित्यनाथ हादसे की जांच के आदेश दे चुके हैं। सरकार ने मृतकों के परिजनों को 2-2 लाख रुपए आर्थिक सहायता देने और घायलों का सही इलाज कराने के भी निर्देश दिए हैं।

गौरतलब है कि, मुरादनगर के उखलारसी गांव की संगम विहार कॉलोनी के रहने वाले जयराम (70) का बीते रविवार निधन हो गया था। सुबह करीब 11 बजे मुरादनगर के बंबा रोड श्मशान घाट पर उनके अंतिम संस्कार की प्रक्रिया चल ही रही थी। उस वक़्त हल्की बारिश भी हो रही थी, जिससे बचने के लिए कुछ लोग श्मशान घाट में बने नए गलियारे के नीचे खड़े हो गए, लेकिन अचानक उसकी छत भरभरा के गिर गई।

इसे भी पढ़ें: औवैसी ने पश्चिम बंगाल में दी दस्तक, अब्बास सिद्दीकी से मुलाकात कर जाना राज्य का माहौल