Saturday, December 4, 2021

उत्तराखंड के सैलाब से UP के इन जिलों में आई बाढ़, दिल्ली-लखनऊ हाईवे बंद

- Advertisement -
- Advertisement -

मुरादाबाद। उत्तर प्रदेश में भी उत्तराखंड में हुई भारी बारिश का कहर दिखने लगा है। रामपुर में कोसी नदी और मुरादाबाद में रामगंगा अपने उफान पर हैं, जिसका गंदा पानी दिल्ली-नेशनल हाई-वे पर आ गया है। इसकी वजह से यातायात प्रभावित हुआ है। उत्तराखंड में हुई भारी बारिश के बाद कालागढ़ डैम फुल हो चुका है, जिसका पांच हजार क्यूसिक से ज्यादा पानी छोड़ा गया है। इस वजह से ही रामगंगा नदी खतरे के निशान से ऊपर आ चुकी है। बताया जा रहा है कि नदी के किनारे बसे गांवों में पानी घुस चुका है, जिससे लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

इसे भी पढ़ें : कुदरत का कहर : नैनीताल के लग्जरी रिजार्ट में फंसे 150 पर्यटक, 9 मजदूरों सहित 16 की मौत

मुरादाबाद के करीब 100 गांवों में बाढ़ का खतरा बना हुआ। लखीमपुर खीरी में पलिया-भीरा के बीच रेल पटरी पर भी बारिश का पानी आ जाने की वजह से मैलानी-नानपारा एक जोड़ी ट्रेन रद्द कर दी गई हैं। जिले के कुछ गांव में भी पानी घुस चुका है। बताया जा रहा है कि मंगलवार को जान बचाने के लिए लोग अपने घरों की छत पर पेड़ों पर चढ़कर गए। एयरफोर्स की टीम ने ऐसे 8 लोगों को एयरलिफ्ट कर उनकी जान बचाई। उत्तराखंड के बनबसा से छोड़े गए पानी की वजह से पीलीभीत के तीस गांव बाढ़ की चपेट में आ गए हैं।

प्रशासन ने रामगंगा किनारे बसे गांवों में हाई अलर्ट जारी कर दिया। प्रशासन द्वारा लेखपालों की टीम को गांव भेज दिया गया है। बुधवार सुबह राष्ट्रीय राजमार्ग 24 के मूढापांडे क्षेत्र में कई गांवों में बाढ़ की वजह से हालात बिगड़ गए हैं। राहत और बचाव कार्य के लिए एसडीआरएफ समेत टीमें मौके पर सक्रिय हैं। रामपुर में भी उत्तराखंड से आई आफत ने लोगों की परेशानी को बढ़ा दिया है। प्रशासनिक अधिकारियों का कहना है कि पहाड़ों से आ रहे पानी की वजह से हालात बिगड़े हैं। नदियों का पानी हाई-वे पर पानी आने की वजह से वाहन चालकों को भी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

इसे भी पढ़ें : ‘महिला बॉस’ से पत्नी की थी नजदीकियां, धमकियों से तंग आकर पति ने लगाई फांसी

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -