कोरोना संक्रमित मरीज ने 5वीं मंजिल से कूदकर की आत्महत्या, अस्पताल पर लगा लापरवाही का आरोप 

41

भले ही कोरोना की वैक्सीन बनकर तैयार हो चुकी हो। भले ही लोग कोरोना को मात देकर नई जिंदगी की शुरूआत कर रहे हो, लेकिन इस जानलेवा वायरस कोे लेकर जेहन में बसा खौफ अभी-भी जाने का नाम नहीं ले रहा है। आलम यह है कि अभी-भी कोरोना से संंक्रमति होनेे के बाद लोग इस कदर खौफजदा हो रहे हैं कि अपनी जीवन  लीला को ही हमेशा-हमेशा के लिए समाप्त कर ले रहे हैं।  अभी ताजा मामला उत्तर प्रदेश के जिला मुजफ्फरनगर से सामने आया है,  जहां अस्पताल में उपचाराधीन एक कोरोना मरीज ने 5वीं मंजिल से कूदकर आत्महत्या कर ली। वहीं, मौके पर पहुंचे परिजनों ने अस्पताल प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाया। उधऱ, पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। ये भी पढ़े :राहतभरी खबर..भविष्य में सर्दी जुकाम जैसी बीमारी बन जाएगा कोरोना, वैज्ञानिकों ने दिए ये संकेत 

बता दें कि  गत 8 जनवरी को 51 वर्षीय राजकुमार कोरोना से संक्रमित पाए गए थे, जिसके बाद उन्हें अस्पताल के आइसोलेट वार्ड में  भर्ती करवाया गया था। कुछ दिनों तक आइसोलेट मेें रहने के बाद एक दिन उनकी तबीयत एकाएक बिगड़ गई, जिसके बाद उन्हें आईसीयू वार्ड में भर्ती करवाया गया, लेकिन विगत बुधवार को मरीज ने 5वीं मंजिल से कूदकर आत्महत्या कर ली। जिस वक्त ये वाकया घटा। उस वक्त पूरे अस्पताल में हड़कंप मच गया।

बताया जा रहा है कि पहले तो अत्याधिक कोहरे की वजह से मरीज का कुछ पता नहीं लगा। अस्पताल प्रशासन मरीज  की तलाश में जुट रहा। फिर, मरीज का शव अस्पताल के नीचे पड़ा हुआ मिला, जिसे देखकर अस्पताल प्रशासन के होश फाख्ता हो गए।  वहीं, जब परिजनों को  इसकी खबर तो अस्पताल प्रशासन उनके गुस्से का भी शिकार हुआ। उधर, जिला अधिकारी सेल्वा ने बताया कि मरीज विगत 8  जनवरी को कोरोना से संक्रमित पाया गया था, जिसके बाद  उसे अस्पताल में भर्ती करवाया गया। ये भी पढ़े :कोरोना वायरस को लेकर बिल गेट्स की भविष्यवाणी, भारत के लिए किया बड़ा दावा