बस्ती: अधिकारियों ने लगवाया कोरोना वैक्सीन का पहला टीका, कहा- वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित

37

बस्ती। बस्ती में कोरोना वायरस के फ्रंट लाइनर अधिकारियों और कर्मचारियों को कोरोना का पहला टीका लगवाया। जिले में लगातार नियमों के अनुसार रजिस्ट्रेशन हो हो रहा है। उसके बाद सेंटर निर्धारित किये जा रहे हैं। सभी सेंटरों पर सौ लोगो को टीका लगाया जाना है। टीकाकरण होने से पहले आवेदक द्वारा रजिस्ट्रेशन भी कराना जरुरी है। आज रजिस्ट्रेशन के दौरान महिला जिला अस्पताल में पहुंचकर मंडलायुक्त, आईजी, जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक ने कोविड-19 का टीकाकरण कराया।

इसे भी पढ़ें: खुलासा : पहले ही रची जा चुकी थी 26 जनवरी को हुए उपद्रव की साजिश, कुछ ख़ास ग्रुपों को मिले थे ये निर्देश

जिला अस्पताल में कार्यरत महिला एएनएम ने अधिकारियों को कोरोना का पहला टीका लगाया। कोरोना वैक्सीन का ये टीका स्वदेशी है जो पूरी तरह सुरक्षित है। टीका लगवाने के बाद सभी अधिकारी करीब 30 मिनट तक आबजर्वेशन रूम में बैठे रहे। इसके के बाद ही सभी अधिकारी बाहर निकलकर अपने-अपने कार्यालय के लिए रवाना हुए।

मीडिया से बात करते हुए डीएम अशुतोष निरंजन ने कहा कि, फ्रंट लाइनर वर्कर में आने वाले रेवन्यू, पुलिस विभाग के कर्मचारी व सफाईकर्मी भी इसमे शामिल हैं। जिले में वैक्सीनेशन चल रहा है। इसी क्रम आज में कमिश्नर बस्ती, आईजी बस्ती, एसपी और मैंने भी टीका लगवाया है। इस टीके के लगवाने से किसी प्रकार का कोई साइडइफेक्ट या फिर किसी अन्य तरह की कोई दिक्कत या परेशानी नही महसूस हुई है।

भारत में कोरोना टीकाकरण 16 जनवरी से शुरू हुआ है। अब तक सबसे ज्यादा स्वास्थ्यकर्मियों का टीकाकरण मध्य प्रदेश में हुआ है। राज्य में अब 73.6 प्रतिशत स्वास्थ्यकर्मियों को कोरोना का पहला डोज दिया जा चुका है। वहीं अब तक सबसे कम टीकाकरण पुडुचेरी में हुआ है। राज्य में अब तक सिर्फ 12.60 प्रतिशत स्वास्थ्यकर्मियों को कोरोना का पहला डोज दिया जा चुका है। उत्तर प्रदेश में अब तक 10.4 प्रतिशत टीकाकरण हुआ है। वहीं महाराष्ट्र में 8.2 प्रतिशत, गुजरात में 7.1 प्रतिशत स्वास्थ्यकर्मियों को वैक्सीन लगी है।

इसे भी पढ़ें: हिस्ट्रीशीटर ने पुलिस को दी चुनौती, कहा- मुझे तो भगवान भी नहीं पकड़ सकते, एक्शन में आई पुलिस