सीएम योगी ने निराश्रितों—दिव्यांगजनों के खाते में भेजी तीन महीने की पेंशन, बोले— कोई खुद को अकेला न समझे

22
yogi

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के गरीबों के लिए एक बार फिर अपना खजाना खोल दिया है। इसी के तहत आज सुबह उन्‍होंने सूबे के 86.95 लाख वृद्धावस्था, विधवा, दिव्यांगजन व कृष्ठजनों के बैंक खातों में तीन महीने (जुलाई, अगस्‍त, सितम्‍बर) की पेंशन ट्रांसफर कर दी है। बता दें कि प्रदेश में कुष्‍ठावस्‍था पेंशन 2500 रुपए और वृद्धावस्था, विधवा, दिव्यांगजनों को 500 रुपए प्रतिमाह पेंशन दिया जाता है। इस दौरान सीएम योगी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से लाभर्थियों से संवाद भी किया। संवाद के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में कोई निराश्रित, वृद्ध, विधवा, दिव्‍यांग या कुष्‍ठरोगी खुद को अकेला न महसूस करे, उनके साथ प्रदेश सरकार खड़ी है।

इसे भी पढ़ें: सोने की कीमत ने फिर लगाई छलांग, जानें क्या है आज का भाव

मुख्यमंत्री ने अपने कार्यालय से तकनीक के माध्यम से पेंशन ट्रांसफर करते हुए सरकारी धन के वितरण में पारदर्शिता, तेजी और भ्रष्टाचार से मुक्ति जैसी बातों का जिक्र किया। उन्‍होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी के चलते ही आज यह सम्‍भव हो पा रहा है। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार के लिए ‘नर सेवा नारायण सेवा’ है। बेसहारा, निराश्रित, दिव्‍यांगजन या अन्‍य किसी भी श्रेणी में कोई आता हो तो उसे यह नहीं समझना चाहिए कि वह अकेला है उसके साथ कोई नहीं है। समाज, सरकार, प्रशासन को ऐसे लोगों की मदद के लिए हमेशा तत्‍पर रहना होगा। इस दौरान मुख्यमंत्री के साथ कार्यक्रम में फतेहपुर, ललितपुर, वाराणसी, देवरिया, अयोध्या, प्रयागराज और चित्रकूट के लाभार्थी वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना संकट को देखते हुए सरकार इस वर्ष अप्रैल माह से गरीबों को महीने में दो बार राशन मुहैया करा रही है। सरकार की कोशिश रही कि कोरोना काल में किसी को राशन की दिक्‍कत न होने पाए। जिन लोगों राशन कार्ड नहीं बने हैं उनके तत्काल राशन कार्ड बनाने के निर्देश दिए गए हैं। इसी तरह यदि कोई गरीब बीमार पड़ता है और वह आयुष्‍मान कार्ड या मुख्‍यमंत्री जन आरोग्‍य योजना का लाभार्थी नहीं है तो भी उसे ग्राम प्रधान की निधि से एक हजार रुपए की तत्‍काल मदद करने का आदेश दिया गया है। इसी तरह यदि किसी निराश्रित गरीब की मौत होती है और उसके अंतिम संस्‍कार का इंतजाम नहीं हो पा रहा है तो जिलाधिकारी तुरंत पांच हजार रुपए की व्‍यवस्‍था करेंगे।