Friday, October 22, 2021

लखीमपुर खीरी हिंसा के बाद डैमेज कंट्रोल में जुटी BJP, स्वतंत्र देव सिंह पहुंचे दिल्ली, ‘टेनी’ की छुट्टी तय!

- Advertisement -
- Advertisement -

लखनऊ। लखीमपुर खीरी हिंसा के बाद बीजेपी की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं रही हैं। विपक्ष और किसान संगठन लगातार मांग कर रहे हैं कि केंद्रीय गृह मंत्री अजय मिश्रा ‘टेनी’ को उन्हें पद से हटाया जाये। इस बीच यूपी बीजेपी के अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह सहित प्रदेश प्रभारी राधा मोहन सिंह और संगठन मंत्री सुनील बंसल दिल्ली पहुंचे हैं। माना जा रहा है कि पार्टी नेताओं की बैठक बाद तय होगा कि अजय मिश्रा से इस्तीफा लिया जाये या नहीं।

इसे भी पढ़ें : UP में एनकाउंटर के बहाने मुसलमानों को बनाया जा रहा है निशाना : असदुद्दीन ओवैसी

लखीमपुर खीरी हिंसा के बाद जहां बीजेपी डैमेज कंट्रोल में जुटी है। वहीं विपक्ष पर किसान संगठन सरकार पर हमलावर हैं। रविवार को यूपी बीजेपी अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने पार्टी कार्यकर्ताओं को नसीहत देते हुए कहा था कि नेतागिरी का मतलब किसी को लूटने नहीं आए हैं, ना फ़ॉर्चूनर से किसी को कुचलने आए हैं. वोट मिलेगा तो सिर्फ आपके व्यवहार से मिलेगा। इस बयान के बाद ही माना जा रहा था कि अजय मिश्रा की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

आशीष मिश्रा को रिमांड पर लेगी SIT
सोमवार को केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा की पुलिस रिमांड की अर्जी पर सुनवाई होनी है। SIT आरोपी को रिमांड पर लेकर पूछताछ करना चाहती है। ज्ञात हो कि, लखीमपुर खीरी के बीजेपी बूथ अध्यक्ष राम गोपाल पांडे ने इस्तीफा दे दिया है। इसके साथ उन्होंने बीजेपी नेताओं पर आरोप लगाया है कि उन्होंने अपने कार्यकर्ताओं का साथ नहीं दिया। रामकुमार पांडे का कहना है कि तिकुनिया कांड में मारे गए बीजेपी कार्यकर्ता के परिवार से कोई मंत्री जाकर नहीं मिला।

गौरतलब है कि, लखीमपुर हिंसा में 8 लोगों की मौत हुई हैं। आशीष और उनके साथियों पर दर्ज एफआईआर के अनुसार, केंद्रीय मंत्री का बेटा उस कार में मौजूद था, जिससे किसानों को कुचला गया है। इसके आलावा उस पर फायरिंग करने का भी आरोप लगाया गया है।

इसे भी पढ़ें : बड़ा आतंकी हमला : पुंछ में आतंकियों के साथ हुई मुठभेड़ में जेसीओ सहित 5 जवान शहीद

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -