यूपी में हिंदू हृदय की सियासत में कल्याण के बाद आया योगी आदित्यनाथ का नाम

222

अयोध्या/लखनऊ। राम मंदिर का निर्माण का काम शुरू होने जा रहा है। आने वाले इसी माह की 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राम मंदिर का भूमिपूजन करने के लिए आ रहे हैं। भूमिपूजन के लिए राम नगरी अयोध्या को दुल्हन  की तरह सजाया जा रहा है। तैयारियों का जोर राजधानी लखनऊ से लेकर अयोध्या के गर्भगृह तक दिख रहा है। उत्साह और उम्मीदों के बीच एक और चीज है जो आने वाले दशकों में यूपी की सियासत की एक नई तस्वीर लिखने जा रही है। ये चीज है योगी आदित्यनाथ की वो भगवा हिंदुत्व आइकन की छवि जिसने प्रदेश की सियासत में एक नई चर्चा शुरू कर दी है। एक जमाने में कल्याण सिंह जैसे फायरब्रांड हिंदुत्व वाले चेहरों को केंद्र में रखने वाली यूपी बीजेपी को अब योगी आदित्यनाथ के रूप में हिंदुत्व ब्रांड का बड़ा चेहरा मिल चुका है।

यह भी पढ़ें:-लंबी बीमारी के चलते राज्यसभा सांसद अमर सिंह का इलाज के दौरान निधन

अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन समारोह को लेकर योगी आदित्यनाथ जिस अंदाज में तैयारियां कर रहे हैं, वह अभूतपूर्व है। राम नगरी को सजाया जा रहा है,दीपोत्सव की योजनाएं बन गई हैं और देश भर के प्रमुख मेहमानों को आमंत्रण भी भेजा जा रहा है। सीएम खुद इस सारे उत्सव की जिम्मेदारी ले चुके हैं और राम मंदिर का उत्सव एक भव्यतम रूप में दिखे इसके निर्देश भी दिए गए हैं। इन सब के बीच राम मंदिर यूपी की खबरों का केंद्र है। ये वक्त कल्याण सिंह का वही कालखंड याद कराता है, जब विवादित ढांचे के विध्वंस के बाद सिंह ने सारी जिम्मेदारी खुद पर ले ली थी।

यह भी पढ़ें:-बड़ा हादसा: विशाखापट्टनम क्रेन गिरने से 11 मजदूरों की मौत, एक घायल

चर्चाओं में उस वक्त राम मंदिर की तमाम खबरें थीं और कल्याण सिंह का सीएम कार्यालय सक्रिय भी। इस बार भी ऐसा ही है, सकारात्मक वजहों से मंदिर चर्चा में है तो योगी सारी गतिविधि की मॉनिटरिंग खुद कर रहे हैं। मंदिर का निर्माण कार्य 2020 में शुरू होना है, जिसे 2023 तक पूरा कराने का लक्ष्य रखा गया है। हालांकि 2022 के चुनाव में मंदिर वोट मांगने की वजह बनेगा ये तय है। मंदिर और हिंदुत्व की सियासत में भगवा रंग का वस्त्र पहने योगी की शक्तियां बढ़ेंगी।

यह भी पढ़ें:-लोगों को भाया आईएएस अधिकारी का देशी लुक, सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तस्वीर