सीरम इंस्टीट्यूट के सीईओ के खिलाफ कोर्ट में अर्जी, Covishield लगवाने के बाद नहीं बनी एंटीबॉडी!

0
79

लखनऊ। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ अदार पूनावाला (Adar Poonawalla) के खिलाफ के उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ (Lucknow) में न्यायालय में मुकदमे की अर्जी दी गई है, जिस पर कोर्ट ने सम्बंधित थाने से रिपोर्ट दर्ज करने को कहा है और मामले की सुनवाई दो जुलाई को होगी। पूनावाला पर आरोप लगे हैं कि उनकी कंपनी की कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड लगवाने के बाद भी एंटीबॉडी नहीं बनी। राजधानी के गोविंद हॉस्पिटल (Govind Hospital) में प्रताप चंद्र ने 8 अप्रैल को कोविशील्ड वैक्सीन (Covishield Vaccine) का पहला डोज लगवाया था लेकिन उसके बाद से ही उनकी हेल्थ ठीक नहीं रहती थी। इस वजह से उन्होंने 25 मई को एंटी बॉडी टेस्ट कराया।

इसे भी पढ़ें : पंजाब : केजरीवाल के तीन बड़े ऐलान… 80 प्रतिशत लोगों के बिल होंगे माफ, 24 घंटे मिलेगी बिजली

प्रताप चंद्र पेशे से वकील हैं, जिन्होंने बताया है कि वैक्सीन लेने के बाद भी उनके शरीर में एंटीबॉडी (Antibodies) डेवलेप नहीं थी और सामान्य प्लेटलेट्स में भी काफी गिरावट हुई। जो घटकर आधे से भी कम हो गई। इसकी वजह से उन्हें कोरोना संक्रमण (Corona Infection) का खतरा काफी बढ़ गया था, जिसे लेकर ही कोविशील्ड बनाने वाली कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट (Serum Institute) के सीईओ अदार पूनावाला के खिलाफ प्रताप चंद्र ने कोर्ट में मुकदमे की अर्जी दी है।

अदार पूनावाला के आलावा 7 अन्य लोगों के खिलाफ भी प्रताप चंद्र ने एफआईआर दर्ज करने के लिए कोर्ट में अर्जी दी है। अर्जी में आईसीएमआर के महानिदेशक, केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन उत्तर प्रदेश के निदेशक, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के ज्वाइंट सेक्रेटरी के आलावा गोविंद हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर लख़नऊ के निदेशक को भी विपक्षी पक्षकार बनाया गया है।

वकील प्रताप चंद्र ने कोर्ट से मांग की है कि इन सभी के खिलाफ हत्या और धोखाधड़ी का केस दर्ज करने का आदेश दे। अर्जी पर कोर्ट ने फिलहाल सम्बंधित ठाणे से रिपोर्ट तलब की है और मामले की अगली सुनवाई दो जुलाई को होगी।

इसे भी पढ़ें : सपा के गढ़ में बीजेपी को नहीं मिला प्रत्याशी, 21 सीटों पर निर्विरोध चुने गए जिला पंचायत अध्यक्ष