Saturday, October 16, 2021

लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में अखिलेश ने कहा – जीप के टायरों से रौंदा जा रहा है देश का कानून

- Advertisement -
- Advertisement -

लखनऊ। लखीमपुर खीरी हिंसा मामले के बाद यूपी की सियासत में उबाल है। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शनिवार को लखनऊ में प्रेस कांफ्रेंस करके उत्तर प्रदेश सरकार पर निशाना साधा है। पूर्व सीएम ने कहा है कि जीप के टायरों के नीचे देश का कानून कुचला जा रहा है। मौजूदा सरकार भेदभाव कर रही है। अखिलेश यादव ने कहा कि कानून को बीजेपी सिर्फ रौंदना चाहती है। सपा दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग करती है। सपा अध्यक्ष ने कहा कि 2022 में उत्तर प्रदेश में परिवर्तन आना तय है क्योंकि प्रदेश सरकार द्वारा किसानों की हत्या के आरोपी आशीष मिश्रा को समन नहीं गुलदस्ता भेजा जा रहा है।

इसे भी पढ़ें : CM योगी के इस बयान से नाराज प्रियंका गांधी ने वाल्मीकि मंदिर में लगाया झाड़ू

सपा सुप्रीमो ने कहा कि यूपी में जंगलराज चल रहा है। न्याय में सरकार अब भेदभाव कर रही है। इसके साथ ही उन्होंने वारदात में शामिल दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है। उन्होंने कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव 2022 में बीजेपी का सफाया हो जाएगा। प्रदेश में कानून व्यवस्था ध्वस्त हो चुकी है। इस बीच शनिवार को लखीमपुर हिंसा के मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा लखीमपुर खीरी में क्राइम ब्रांच के दफ्तर में सुबह 11 बजे पहुंचे। जहां उनसे पूछताछ जारी है। शुक्रवार को भी उन्हें पेश होना था लेकिन वो नहीं हुए। वहीं दूसरी तरफ आशीष मिश्रा के समर्थक भी लखीमपुर खीरी में क्राइम ब्रांच के दफ्तर के बाहर पहुंच गए हैं, जो नारेबाजी कर रहे हैं।

गौरतलब है कि बहराइच जिले के जगजीत सिंह की शिकायत पर दर्ज एफआईआर के अनुसार, लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा पूरी तरह से सुनियोजित थी। इसकी साजिश मंत्री और उनके बेटे ने रची थी। एफआईआर के अनुसार, केंद्रीय मंत्री का बेटा उस कार में मौजूद था, जिससे किसानों को कुचला गया है। इसके आलावा उस पर फायरिंग करने का भी आरोप लगाया गया है। केंद्रीय मंत्री के भड़काऊ बयान दिया और उसके के बाद हिंसा भड़की, जिसमे 8 लोगों की मौत हुई।

इसे भी पढ़ें : विरोधियों पर बरसीं मायावती, कहा – हवा हवाई हैं बीजेपी, सपा, कांग्रेस के वादे, चुनाव आयोग से करूंगी शिकायत

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -